उत्तराखंडी ई-पत्रिका की गतिविधियाँ ई-मेल पर

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

उत्तराखंडी ई-पत्रिका

Wednesday, November 3, 2010

बग्वाली की ढेरों शुभकामनायें

Friday, October 22, 2010

Daayen Ya Baayen Movie Review : Hills and Wheels

Daayen Ya Baayen Movie Review : Hills and Wheels

Tuesday, October 19, 2010

"आश कु पंछी "

म्यारू आश कु पंछी रीटणु रेएँद ,झणही किल्लेय बैचैन होव्केय ?
झणही किल्लेय डब-डबानि रेंदी मेरी आँखी दिन रात इन्ने फुन्डे ?
किल्लेय देखणी रेह्न्दी टक्क लग्गे की बाटू पल्या स्यार कु ?
उक्क्ताणु रेंद म्यारू तिसल्या प्राण झणही कैय्येका बाना ?
शयेद में आज भी आश कनु छों की ,
वू कब्भी त़ा आला बोडी की अपडा घार ?
वू जू म्यरा छीन ,और मीं सिर्फ जौं की छों ,
बस इंही आश मा कटणू छों आपणा दिन की ,
मतलब से ही सही ,पर वू आला जरूर कभी त़ा ,
क्या पता से वेह्य जाऊ वों थे भी मेरी पीड कु अहसास
और बौडी आला सब म्यरा ध्वार ,अपना घार,अपणा पहाड़
बस एही चा आज मेरी आखरी आश !
बस एही चा आज मेरी आखरी आश !
बस एही चा आज मेरी आखरी आश !

"जन्म -भूमि उत्तराखंड की साखीयौं पुराणी पलायन पीड़ा थेय सादर समर्पित मेरी कुछ पंक्तियाँ एंन्ही आश का साथ की एक दिन पहाड़ मा पलायन एक समस्या नि रैली "

रचनाकार :गीतेश सिंह नेगी (सिंगापूर प्रवास से ),दिनाक ११-०९-2010
अस्थाई निवास: सिंगापूर / मुंबई /सहारनपुर
मूल निवासी: ग्राम महर गावं मल्ला ,पट्टी कोलागाड
पोस्ट-तिलखोली,पौड़ी गढ़वाल ,उत्तराखंड

Source: म्यरा ब्लॉग "हिमालय की गोद से " और पहाड़ी फोरम मा पूर्व-प्रकशित

आवा गढ़वाळी सिखला -४०

Let Us Learn Garhwali -40
Bhishma kukreti
English translation
1- A girl plays
(एक ) नौनि खिलणि च
2- Girls play
(बिंडी ) नौनि खिलणा छन
3- ( A Girl ) student writes
पढ़ण वाळी या स्कुल्या नौनि लिखणि च
4- (girl) students write
पढ़ण वाळ या स्कुल्या नौनि लिखणा छन
5- She writes
वा लिखणि च
6- They (girls) write
वो लिखणा छन
7- Sudha laughs
सुधा हंसणि च
8- Girls laugh
नौनि हंसणा छन
9- Ram runs
राम दौड़नु च
10 You run
तू दौड़नु छे / तू दौड़नी छे /
तुम दौड़ना छंवा
11- They run
वो दौड़ना छन
12- Raam and shyam run
राम अर श्याम दौड़ना छन
13- I write
मि लिखणु छौं
14- We write
हम लिखणा छंवां
Copyright @ Bhishma Kukreti bckukreti@gmail.com

"जग्वाल"

धुरपाली कु द्वार सी
बस्गल्या नयार सी
देखणी छीन बाटू आँखी
कन्नी उल्लेरय्या जग्वाल सी

छौं डबराणू चकोर सी
छौं बोल्याणु सर्ग सी
त्वे देखि मनं तपणु च घाम छूछा
हिवालां का धामं सी

काजोल पाणी मा माछी सी
खुदेड चोली जण फफराणि सी
जिकुड़ी खुदैन्द खुद मा तेरी लाटा
घुर घुर जण घुघूती घुरयान्दी सी

देखणी छीन बाटू आँखी
कन्नी उल्लेरय्या "जग्वाल" सी
कन्नी उल्लेरय्या "जग्वाल" सी
कन्नी उल्लेरय्या "जग्वाल" सी

रचनाकार: गीतेश सिंह नेगी (सिंगापूर प्रवास से )
अस्थाई निवास: मुंबई /सहारनपुर
मूल निवासी: ग्राम महर गावं मल्ला ,पट्टी कोलागाड
पोस्ट-तिलखोली,पौड़ी गढ़वाल ,उत्तराखंड
स्रोत : म्यारा ब्लॉग " हिमालय की गोद से " एवं "पहाड़ी फोरम " मा पूर्व - प्रकाशित
( http://geeteshnegi.blogspot.com & http://www.pahariforum.net/forum/index.php/topic,122.0.html)

"त्वे आण प्वाडलू

रंगली बसंत का रंग उडी जाण से पहली
फ्योंली और बुरांश का मुरझाण से पहली
रुमझुम बरखा का रुम्झुमाण से पहली
त्वे आण प्वाडलू

बस्गाल्य्या गद्नियुं का रौलियाँण से पहली
डालीयूँ मा चखुलियुं का च्खुलियाँण से पहली
फूलों फर भोंरा - पोतलियूं का मंडराण से पहली
त्वे आण प्वाडलू

उलैरय्या होली का हुल्करा कक्खी ख्वै जाण से पहली
दम्कद्दा भेलौं का बग्वाल मा बुझ जाण से पहली
हिन्सोला ,किन्गोड़ा और डांडीयों मा काफुल प़क जाण से पहली
त्वे आण प्वाडलू

छुंयाल धारा- पंदेरोउन का बिस्गान से पहली
गीतांग ग्वेर्रऊ का गीत छलेएजाण से पहली
बांझी पुंगडीयों का डीश, खुदेड घ्गुगती का घुराण से पहली
त्वे आण प्वाडलू

मालू , गुईराल , पयें और कुलैं बाटू देखेंण लग्गयाँ
और धई जन सी लगाण लग्गयाँ त्वे
खुदेड आग मा तेरी , उन्हका फुक्के जआण से पहली
त्वे आण प्वाडलू

आज चली जा कतागा भी दूर मी से किल्लेय भी
मेरु लाटा ! पर कभी मी से मुख ना लुक्केय
पर जब भी त्वे मेरी खुद लागली ,त्वे मेरी सौं
मुंड उठा की ,छाती ठोक्की की और हत्थ जोड़ी की
त्वे आण प्वाडलू
त्वे आण प्वाडलू
त्वे आण प्वाडलू

"मातृभूमि उत्तराखंड की वहीं धरती थेय सादर समर्पित जू आज भी आस लग्गे की निरंतर हमरी कुशल-कामना कन्नी चा सिर्फ इंही आस का दगडी की वहु कब्भी ता आला बोडि की अपणी माँ का और अपणा गौं का ध्वार "

रचनाकार: गीतेश सिंह नेगी (सिंगापूर प्रवास से )
अस्थाई निवास: मुंबई /सहारनपुर
मूल निवासी: ग्राम महर गावं मल्ला ,पट्टी कोलागाड
पोस्ट-तिलखोली,पौड़ी गढ़वाल ,उत्तराखंड
स्रोत :म्यारा ब्लॉग " हिमालय की गोद से " एवं "पहाड़ी फोरम " मा पूर्व - प्रकाशित

"म्यारु उत्तराखंड "

देखि की पहाडूं यूँ , कन मन खुदै गै
देखि की पहाडूं यूँ , कन मन खुदै गै
माँ थे अपड़ी भूली गयेनी , ढूध पिये कै
अरे माँ थे अपड़ी भूली गयेनी ,दूध पिये कै

बाँजी छीन सगोड़ी ,सयारा रगड़ बणी गयें
परदेशूं मा बस गईनी , अपणु गढ़ देश छोड़ी कै
माँ थे अपड़ी भूल गयीं , ढूध प्येई कै
अरे माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध प्येई कै


रूणा छीं पुन्गडा ,खिल्याण छैल्यी गेई
रोलूउं मा रुमुक पोडी , ग्युइर्र हर्ची गयें,
माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई की
अरे माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई की

पंदेरा - गदेरा भी सुक्की गयेनी ,अब रौई रौई कै
अरे ढंडयालू भी बौऊलै गेई , धेई लगयी लगयी कै
माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई कै
अरे माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई कै


बोली भाषा जल्याई याल , अंगरेजी फुकी कै
अरे गौं कु पता लापता ह्वै,कुजाअणि कब भट्टे
माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई कै
अरे माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई कै


ढोल - दमोऊ फुट गयीं ,म्यूजिक पोप सुनिके
गैथा की रोट्टी भूली ग्योऊ , डोसा पिज्जा खाई कै
माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई कै
अरे माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई कै


रुन्णु च केदार खंड ,खंड मानस बोल्याई गेई
अखंड छो जू रिश्ता , किलाई आज खंड खंड होए गयी
माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई कै
अरे माँ थे अपड़ी भूल गयीं ,ढूध पयेई कै

रूणा छीं शहीद ,शहीद "बाबा उत्तराखंडी " होए गेई
नाम धरयुं च उत्तराँचल ,कख म्यारु "उत्तराखंड " खोयेगे
माँ थे अपड़ी भूल गयौं ,किले तुम दूध पीयें कै
माँ थे अपड़ी भूल गयौं ,किले तुम ढूध पीयें कै
माँ थे अपड़ी भूल गयौं ,किले तुम ढूध पीयें कै



"देव भूमि उत्तराखंड का अमर सपूतों थेय सादर समर्पित "

स्वरचित रचना : "गीतेश सिंह नेगी "
स्रोत :म्यारा ब्लॉग "हिमालय की गोद से " एवं पहाड़ी फोरम मा पूर्व - प्रकाशित
( http://geeteshnegi.blogspot.com & http://www.pahariforum.net/forum/index.php/topic,122.0.html)

Let Us Learn Garhwali - 37

Bhishma Kukreti
बाळ लोक गीतुंन बराखड़ी ( बारहखड़ी ) सिखणो ब्यून्त
Learning Consonants of Devnagari Alphabet with twelve Vowels
After learning consonants , it is essential that we learn the combination of twelve vowles with each consonent and
Our forefathers brought the learning lessons in Folk Songs
बिजगनी क , कन्दन का
बै मती कि, दैणे की
उर्ताले कु, बड्डेरो कू
एकलगु के , द्विलगु कै
एक्ल्गन्या को , द्विलगन्या कौ
सिर बिन्दुं कं, द्विबास क:
--- ----- ---
आभार अबोध बंधु बहुगुणा , डा नन्द किशोर ढौंडियाल , डा मनोरमा ढौंडियाल , रजनी कुकरेती
Copyright for comments, Bhishma kukreti, bckukreti@gmail.com

बचपन का ऊ प्यारा दिन

जब मनख्यौं का मन मा,
याद बणिक ऊभरिक औन्दा,
पापी पराण क्वांसु होन्दु,
कुजाणि क्यौकु खूब सतौंदा.

खैणा तिमलौं की डाळी मा बैठि,
"ऊ बचपन का दिन" खूब बितैन,
सैडा गौं की काखड़ी मुंगरी,
छोरों दगड़ि छकि छक्किक खैन.

पिल्ला, थुच्चि, कबड्डी अर गारा,
खूब खेलिन गुल्ली डंडा,
बण फुन्ड खाई हिंसर किन्गोड़,
घोलु फर हेरदा पोथलौं का अंडा.

गौं का बण फुन्ड गोरु चरैन,
छोरों का दगड़ा गोरछ्यो खाई,
आम की दाणी खाण का खातिर,
आम की डाळी ढुंग्यौन ढुंग्याई.

थेगळ्याँ लत्ता कपड़ा पैर्यन,
चुभ्यन नांगा खुट्यौं फर कांडा,
हिंवाळि काँठी बुरांश देखिन,
जब जाँदा चन्द्रबदनी का डांडा.

स्कूल्या दिन ऊ कथगा प्यारा,
आँगळिन लिख्दा माटा मा,
प्यारू बचपन आज खत्युं छ,
गौं का न्योड़ु स्कूल का बाटा मा.

हे बचपन! अब बिछड़िग्यौं हम,
याद औन्दि चून्दा छन तरबर आंसू,
बचपन की बात आज बतौणु,
कवि: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु".

(रचना पहाड़ी फोरम, यंग उत्तराखंड, मेरा पहाड़ पर प्रकाशित)
दिनांक: १०.१०.२०१०,@सर्वाधिकार सुरक्षित

औंसी की रात

सड़क बणौण वाळा मजदूर,
सड़क का न्योड़ु,
एक पुंगड़ा मा,
टेंट का भितर बैठिक,
रात मा अबेर तक,
खाणौ-पेणौ खैक,
खेन्न लग्याँ था ताश,
सड़क बिटि एक जनानि की,
आवाज आई ऊँका पास,
"होटल कथगा दूर होलु",
"यख फुन्ड त जंगळ छ".

मजदूरून जब सुणि,
तब एक सयाणा मन्खिन बोलि,
अरे! चुपरा अर रण द्या,
खबानि कुछ यीं रात मा,
पर फिर भि,
ऊन जबाब दिनि,
झट सी एक जनानि,
जैंका मुण्ड मा पट्टी सी लगिं,
बदन मा चोळा सी पैरयुं,
टेंट भितर ऐक सामणी बैठी,
अर खाणौ का खातिर बोन्नि,
"मैकु रोठठी खलावा",
सब्बि मजदूरू न सोचि,
शायद अस्पताळ बिटि,
या भागिक अयिं छ,
दगड़ा का सयाणा मन्खिन,
जग्दु लम्पु वींका सामणी बिटि,
झट-पट कैक दूर सरकाई,
कखि बुझै नि द्यो,
यनु विचार मन मा आई.

जब ऊन पूछि, तू कु छैं?
"मैं भंडारी रावत छौं",
पट्टी. तळैं, पौड़ी गढ़वाल की,
वीं जनानिन बताई,
थोड़ी देर मा एक छोट्टा,
दगड़्या फर फट्ट भैरू आई,
अरे! भूतणि छ या,
सब्ब्यौं तैं या बात बताई,
वा जनानि अचाणचक्क,
कुजाणि कख भागिगी,
फेर नजर नि आई,
भौत साल पैलि,
१९७२ किछ या बात,
वे दिन थै बल बग्वाळ,
अर "औंसी की रात".

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा " जिज्ञासु"
(दिनांक: २८.०९.१०)
एक सज्जन श्री कीर्ति सिंह थलवाल, प्रताप नगर, टिहरी गढ़वाल, जो दिल्ली भ्रमण पर आये थे, उनके द्वारा सुनाई लगभग १९७२ की आप बीती पर आधारित. वे उस समय पौड़ी-श्रीनगर मार्ग से बुगाणि को बन रही सड़क पर कार्यरत थे

Learn Garhwali -29

Bhishma Kukreti
ड़रयौण्या रस , भयानक रस ( Rapture of Fear )
वायु मसाण को भयो वर्ण मसाण
वर्ण मसाण को भयो बहतरी मसाण
बहतरी मसाण को भयो चौडिया मसाण
*** ****** ***** ******* **** **** *****
वीर मसाण , अधो मसाण मन्त्र दानौ मसाण
तन्त्र दानौ मसाण
बलुआ मसाण , कलुआ मसाण , तालू मसाण
************* ********** *************************
डैणी जोगणी को लेषवार , नाटक चेटको फेरवार
मण भर खेँतड़ी , मण भर गुदड़ी , लुव्वाकी टोपी बज्र की खंता
(रौख्वाळी गीत
इकबटोळ करण वाळ : डा शिवानन्द नौटियाल
Copyright @ Bhishma Kukreti for narration, bckukreti@gmail.com

"उत्तराखंड मा बसगाळ-२०१०

उत्तराखंड मा भादौं का मैना,
गाड, गदनौं अर धौळ्यौंन,
धारण करि ऐंसु विकराल रूप,
अतिवृष्टिन मचाई ऊत्पात,
नाश ह्वैगि कूड़ी, पुंगड़्यौं कू,
जान भि चलिगि मनख्यौं की,
आज पर्वतजन छन हताश,
प्राकृतिक आफत सी,
निबटण कू क्या विकल्प छ?
आज ऊँका पास .

संचार, बिजली, सड़क संपर्क,
छिन्न भिन्न ह्वैगी,
अँधियारी सब जगा छैगी,
हरी जी की नगरी,
विश्व प्रसिद्ध हरिद्वार मा,
शिव शंकर जी की,
मानव निर्मित विशाल मूर्ति,
गंगा नदी का बहाव मा,
धराशयी ह्वैक बल,
कुजाणि कख बगिगी,
यनु लगदु भगवान शिव शंकर,
प्रकृति का कोप का अगनै,
असहाय कनुकै ह्वैगी?

यनु लगणु छ आज,
लम्पु-लालटेन कू युग,
पहाड़ मा बौड़िक ऐगी,
बसगाळ बर्बादी ल्हेगी,
सब्ब्यौं का मन की बात,
जुमान फर ऐगी,
हे लठ्यालौं आज,
पहाड़ की भौत बर्बादी ह्वैगी.

पहाड़ की ठैरीं जिंदगी,
ठण्डु मठु जगा फर आली,
पहाड़ फर आफत की घड़ी,
बद्रीविशाल जी की कृपा सी,
बगत औण फर टळि जाली,
पर मनख्यौं का मन मा,
"उत्तराखंड मा बसगाळ-२०१०" की,
दुखदाई अतिवृष्टि की याद,
एक आफत का रूप मा बसिं रलि.

रचनाकार: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(दिनांक:२२.९.२०१०, पहाड़ी फोरम, यंग उत्तराखंड, मेरा पहाड़ पर प्रकाशित)
ग्राम: बागी-नौसा, पट्टी. चन्द्रबदनी, टिहरी गढ़वाल.

"लालटेन-लैम्प युग"

हमारा उत्तराखंड,
कल्पित ऊर्जा प्रदेश,
आज अँधेरे में डूबा है,
क्योंकि, पहाड़ पर पानी,
रौद्र रूप धारण करके,
बरस रहा है बरसात में,
ऊफान पर हैं नदियाँ,
दरक रहे हैं पहाड़,
विनाश का मंजर,
निहार कर पर्वतजन,
हो रहे हैं हताश,
किसी के टूट रहे हैं घर,
पहाड़ का टूट गया है,
सड़क संपर्क,
संचार का साधन,
खामोश हैं मोबाइल यन्त्र,
बिना चार्जिंग के,
नहीं हो पा रहा है,
प्रवासी उत्तराखंडियौं का,
स्वजनों से संपर्क,
आज पहाड़ पुराने,
"लालटेन-लैम्प युग" में,
लौट आया है २१वीं सदी में.

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
दिनांक:२२.९.२०१०
(पहाड़ी फोरम, यंग उत्तराखंड, मेरा पहाड़ पर प्रकाशित)

टिमटिमांदा गैणा मा उज्यली खैणा रे।

टिमटिमांदा गैणा मा उज्यली खैणा रे।

चल बणोला राजधानी गैरसैण रे।

राजधानी मठरी बजटै की गठरी,

पहाडों मां ऐ जैंया रेले की पटरी।

पहाडोँ मां ऐयरर्पोट कब बिछौला रे।

चल बणोला राजधानी गैरसैण रे।

RAM CHAMOLI

हमारू पहाड़

आज नाराज किलै छ,
सोचा दौं हे लठ्याळौं,
किलै औणु छ आज,
बल गुस्सा वे सनै?

रड़ना झड़ना छन,
बिटा, पाखा अर भेळ,
भुगतणा छन पर्वतजन,
प्रकृति की मार,
कनुकै रलु पर्वतजन,
पहाड़ का धोरा?

जरूर हमारू पहाड़,
आज नाराज छ,
इंसान कू व्यवहार,
भलु निछ वैका दगड़ा,
नि करदु वैकु सृंगार,
करदु छ क्रूर व्यवहार,
हरियाली विहीन होणु छ,
आग भी लगौंदा छन,
पहाड़ की पीठ फर,
चीरा भी लगौंदा छन,
घाव भी देन्दा छन,
ये कारण सी होणु छ,
गुस्सा "हमारू पहाड़".

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
दिनांक:१५.९.२०१०
(पहाड़ी फोरम, यंग उत्तराखंड, मेरा पहाड़ पर प्रकाशित, सर्वाधिकार सुरक्षित

Thursday, October 14, 2010

होरी कु गीत

होरी का पैली
होल्यारु की टोली
जांदी छ वो गों गों
वो मांगना कु होरी |

जो हमुतैं दयालु
होरी कु दान
वेतैं दयालु
श्री भगवान |

होल्यार झणी
अब कख हर्ची गैन
वून्का बेश मा
कवी होरी येन |

जो हमुतैं दयालु
होरी कु दान
वैकु नि होलू
कबि अपमान |

मंग्दरा वोट
बस्गाल्या गाड
दिन्दरा
जाखा तखी
जित्दरा ताळ |

तुम जब्भी
देहरादून
जब भि ऐल्या
गेट पर म्यारा
कुकर नि पैल्या |

मैता की होरी
गीतू का छंद
सिवा सौली वेमा
बसंत का रंग |

येन्सू का साल
होरी देल्या
भोळ का साल
नाती खिलेल्या |

विजय मधुर

Wednesday, September 29, 2010

Young Uttarakhand Career Guidance Camp - Report

इस कैंप की विस्तृत जानकारी देने से पहले मैं पूरी यंग उत्तराखंड टीम और पूरे उत्तराखंड वाशियों की तरफ से अपने उन सभी भाई, बहिन, माता-पिता और बुजुर्गों को श्रन्धाजली अर्पित करता हूँ जिन्होंने उत्तराखंड और देश के अन्य शहरों में चल रही प्राकृतिक आपदा में अपनी जान गवाईं है. भगवान् सभी मृत आत्माओं को स्वर्ग में शांति प्रदान करे.

कैरियर गाईडेंस कैंप

दिल्ली स्थित उत्तराखंडी प्रवासियों की एक सामाजिक संस्था "यंग उत्तराखंड " समय समय पर विभिन्न प्रकार के सामाजिक कार्यों का क्रियान्वयन करती रहती है जिसका उधेश्य केवल उत्तराखंड के जन समूह का सर्वागीण विकास करना है. यंग उत्तराखंड उत्तराखंड की लोक संस्कृति, साहित्य, समाज और उत्तराखंड के लोक कल्यांर्थ हेतु समय समय पर अपनी कार्यक्षमतानुसार विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित करती रहती है. इसी कड़ी में एक सामजिक कार्य जिसको "करियर गाईडेंस कैंप" का नाम दिया गया का आयोजन समय समय पर उत्तराखंड के दूरस्थ ग्रामीण क्षत्रों के विद्यालयों में आयोजित करता है, जिसका उधेश्य आने वाली नौजवान पीढ़ी जो अभी अपने शैक्षिक अवस्था में हैं, को शिक्षा और रोजगार के क्षेत्र में उपलब्ध विभिन्न अवसरों से परिचित करवाना है.

हर वर्ष की भांति भी इस वर्ष यंग उत्तराखंड संस्था द्वारा गत १८ सितम्बर २०१० को पौड़ी जिल्ले के जी आई सी इंटर कॉलेज में एक कैरियर गाईडेंस कैंप का आयोजन किया गया. झे एक श्लोक याद आ रहा है, जो अपने आप में एक सभ्य और शैक्षिक समाज के लिए बहुत कुछ कह जाता है.

न चोरहार्यं न च राजहार्यम
न भ्रातभाज्य न च भारकारी
ब्यये कृते वर्धत एव नित्यं
विद्या धनं सर्व धनं प्रधानम


वास्तव में विद्या रुपी धन का जिस्तना ब्यय किया जाय उसका वर्धन उतना ही होता जाता है. इसी विद्या रुपी धन को बाटने के लिए यंग उत्तराखंड संस्था इसका आयोजन कैरियर गाईडेंस कैंप के रूप में आयोजित करती है.

उत्तराखंड के ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यालयों में कैरियर गाईडेंस कैंप की आवश्यकता क्यों?

आज के सूचना प्रोद्योकिकी युग को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि आज हम सभी दुनिया में क्या घट रहा है, क्या क्या नयी टेक्नोलोजी आ रही है, सभी लोग इससे परिचित होंगे. जहाँ कंप्यूटर, मोबाइल, टी वी ने आज हमारे घरों में अपनी पहुच बना दी है जो कि आज हमारी दैनिक दिनचर्या का एक अभिन्न अंग भी बन गया है. ये प्राय देखने को मिलता है कि दिल्ली और देश के अन्य बड़े शहरों में निवास करने वाले सक्षम लोगों के घर बच्चा बाद में जन्म लेता है और उसके मनोरंजन की सामाग्रियों का जुटना पहले ही शुरू हो जाता है. भारत के बड़े शहरों में रहने वाले उच्च और माध्यम वर्ग के अभिवावक जहा बच्चे के जन्म के बाद ही उसके भविष्य, उसकी शिक्षा और उसके कैरियर के लिए चिंतित दिखाई देते है यकीन मानिए ऐसा हमारे उत्तराखंड के ग्रामीण क्षेत्रों के अभिवावकों में ऐसी अनुभूति बहुत कम देखने को मिलती है. जहाँ बड़े शहरों में अभिवावकों द्वारा बच्चे के नर्सरी में दाखिला लेने के बाद ही उनको एक लक्ष्य बोधित कराया जाता है कि बेटा/बेटी आगे चलकर तुम्हे अमुक चीज बननी है और हमारा नाम रोशन करना है, वही हमारे ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसा कुछ नहीं दिखाई देता है. बच्चा स्कूल में दाखिला लेता है, बच्चा स्कूल में क्या करता है, क्या पढता है, इसकी सुध लेने की शायद कोइ भी अभिवावक कोशिश करता होगा मैं ये निश्चित होकर नहीं कह सकता. शायद ये जागरूकता की कमी है या कोई अन्य कारण, इस पर मंथन की सक्थ आवश्यकता है. एक ग्रामीण वातावरण में पला बढ़ा होने के कारण और वही से शिक्षा ग्रहण करने के अपने अनुभव के आधार पर मैं इतना जरूर कह सकता हूँ कि हमारे ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों को इतना पता जरूर होता है कि ८वी कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद ९वीन में साईंस लेना है (भले वो उस काबिल हो या न हो), १०वी और १२वी में प्रथम आना है, किसी का उद्देश्य केवल १०वी १२वी को पास करना होता है, आगे जाकर बी ऐ, बी एस सी और एम् ऐ, ऍम एस सी करना है और उसके बाद बी एड. यही उनका कैरियर गोल होता है. जो मेरा अनुभव कहता है, वो बस यही कहता है . अब आप लोग समझ सकते हो कि क्यों हमको इन क्षेत्रों में कैरियर गाईडेंस कैंप लगाने की आवश्यकता है.

जी आई सी नौगाँव खाल कैरियर गाईडेंस कैंप - संक्षिप्त परिचय:

जैसा मैंने पहले कहा कि गत १८ सितम्बर २०१० को यंग उत्तराखंड संस्था द्वारा जी आई सी नौगाँव खाल पौड़ी गढ़वाल में एक कैरियर गाईडेंस कैंप का आयोजन किया गया जिनमे प्रतिभाग करने वाले लोगों के नाम इस प्रकार है -


१. सर्व श्री चंद्रकांत नेगी जी
२. सर्व श्री विपिन पंवार
३. सर्व श्री मनु रावत
४. सर्व श्री सुशील सेंदवाल
५. श्रीमती कीर्ति सेंदवाल
६. सर्व श्री आशीष भाटिया
७. सर्व श्री आशीष पांथरी
८. सुभाष काण्डपाल


यंग उत्तराखंड की ८ सदस्यीय टीम में १७ सितम्बर २०१० रात्रि १० बजे दिल्ली से अपनी यात्रा शुरू की जिसमे ३ वर्षीय एक छोटी से बच्ची ( सर्व श्री सुशील सेंदवाल जी की बिटिया) भी शामिल थी जो हमारी इस जोखिम भरी यात्रा का साक्षी बनी

चिर सजग आंखें उनींदी, आज कैसा ब्यस्त बाना
जाग तुझको दूर जाना
अचल हिमगिरी के ह्रदय में आज चाहे कंप हो ले
या प्रलय के आंसुओं में मौन अलसित ब्योम रो ले
आज पी आलोक को डोले तमीर की घोर छाया
जाग या विद्युत शिखाओं में निठर तूफ़ान बोले
पर तुझे है नाश पथ पर चिह्न अपने छोड़ जाना जाग तुझको दूर जाना



कवि की इन पंक्तियों का स्मरण करते हुए, ये जानते हुए भी कि आजकल उत्तराखंड में सफ़र तय करना उचित नहीं है, प्राकृतिक आपदाओं से विप्पित उत्तराखंड जहाँ तहां केवल त्राही ही त्राही नजर आ रही है फिर भी यंग उत्तराखंड की ८ सदस्यी टीम चल पडी अपनी मंजिल की ओर. कई प्रकार की प्राकृतिक आपदाओं से गुजरते हुए (जिसका वर्णन रिपोर्ट के अंत में जरूर करूँगा) टीम १२ बजे के लगभग जी आई सी नौगाँव खाल के प्रांगण में पहुची, जहा पर विद्यालय के प्रधानाचार्य द्वारा अपने विद्वान गुरुजन वर्ग और और विद्यालय के छात्रों के साथ यंग उत्तराखंड टीम का स्वागत किया गया.


प्रारंभिक स्वागत के उपरांत सभी टीम सदस्य कैंप की तैयारी में जुट गए. कुछ समय बाद १०वी और १२वी के छात्रों को एक सभागार में एकत्रित कर टीम के वरिष्ट सदस्य माननीय श्री चंद्रकांत नेगी जी द्वारा यंग उत्तराखंड संस्था का परिचय छात्र छात्रों और विद्वत गुरुजन वर्ग के साथ करवाया. तदुपरांत श्री नेगी जी ने कैरियर गाईडेंस कैंप की और छात्रो को कैरियर के प्रति सजग रहने की मह्तता पर प्रकाश डाला.

तदुपरांत श्रीमती कीर्ति सेंदवाल जी ने कंप्यूटर शिक्षा के बारे में छात्रों को विस्तृत जानकारी प्रदान की. कंप्यूटर क्षेत्र में शिक्षा और रोजगार के अवसरों पर विस्तृत जानकारी प्रस्तुत करते हुए छात्रों को कंप्यूटर क्षेत्र में कैरियर बनाने के लिए प्रेरित किया. साथ ही साथ चिकित्सा के क्षेत्र में शिक्षा और कैरियर के बारे में छात्रों को विस्तृत जानकारी प्रदान की. छात्र बड़ी तन्मयता और नोटबुक को साथ लेकर श्रीमती कीर्ति सेंदवाल जी को सुन रहे थे और मैं बीच में देख रहा था कि कई बच्चे साथ साथ में अपनी नोटबुक में कुछ कुछ बातें नोट कर रहे थे, जो कि एक अच्छा संकेत दिखाई दे रहा था.


तदुपरांत श्री चंद्रकांत नेगी जी ने छात्रों को आत्म विश्वास के महत्व के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की और और छात्रों को अपना आत्म विश्वास बढाने के लिए प्रेरित किया.
तदुपरांत श्री सुशील सेंदवाल जी ने छात्रों को प्रबंधन क्षेत्र (मैनेजमेंट) में शिक्षा और रोजगार की असीम संभावनाओं के बारे में अवगत करवाया. इसके साथ ही श्री सेंदवाल जी ने आज के प्रतियोगी युग में अंग्रेजी शिक्षा का ज्ञान और उसके महत्व के बारे में छात्रों को विस्तृत जानकारी प्रदान की.


तदुपरांत श्री आशेष भाटिया जो मूलरूप से उत्तराखंडी न होकर भी जिन्होंने हमारे कैंप को ज्वाइन किया. श्री आशीष भाटिया जी ने आई आई टी के टोपर और आई आई टी कानपुर के स्वर्ण पदक विजेता रहे है. श्री आशीष भाटिया जी ने इंजीनियरिंग क्षेत्र में शिक्षा और रोजगार के बारे में छात्रों को विस्तृत जानकारी प्रदान की. साथ ही साथ में विभिन प्रकार की इंजीनियरिंग प्रतिगोगी परीक्षाओं की तैयारी किस प्रकार करनी चाहिए इसकी जानकारी भी छात्रों को प्रदान की. सभी छात्र बड़ी तन्मयता होकर श्री भाटिया जी को सुन रहे थे और मैं देख रहा था कि कैंप के बाद भी कई छात्र ब्याक्तिगत रूप से श्री भाटिया जी से कैरियर के बारे में गुफ्तगू कर रहे थे.

तदुपरांत श्री आशीष पांथरी जी ने विभिन प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए बेसिक शैक्षिक योग्यता और प्रतियोगी फॉर्म के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की

तदुपरांत टीम के अन्य सदयों द्वारा एक सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता का आयोजन किया गया

सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता आयोजन का उधेश्य:

छात्रों को वर्तमान सम सामयिकी पर नजर रखने और विभिन प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने की ओर मुखरित और प्रेरित करने के लिए यंग उत्तराखंड टीम ने अपने सदस्यों और विद्यालय के गुरुजन वर्ग की देख रेख में २५ मिनट की एक छोटा सी प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन किया. इस प्रतियोगी परीक्षा में सबसे अधिक अंक प्राप्त करने वाले जो तीन छात्र थे उनके नाम इस प्रकार है:

1st पवन पांथरी
2nd. प्रीतम बिष्ट
3rd. विनीत नौटियाल

विजेता छात्रों के उत्साह वर्धन हेतु पारुतोशिक रूप में हर एक बच्चे को एक एक शील्ड प्रदान की गयी जो कि हर एक बच्चे के लिए प्रेरणा का काम करेगी, ऐसा हमारा विश्वास है


छात्रवृति प्राप्त करने वाले छात्र:

यंग उत्तराखंड संस्था द्वारा कुछ आर्थिक रूप से अक्षम छात्रों को आर्थिक मदद के रूप में छात्रवृति प्रदान की गयी जिनके नाम इस प्रकार है:

१. विनीत नौटियाल (12th)
२. प्रकाश सिंह (11th)
३. हिना (11th)
४. कुलदीप सिंह (11th)
५. श्रवण सिंह (11th)

इसके अलवा यंग उत्तराखंड द्वारा कैरियर से सम्बन्धित पुस्तकें स्कूल के पुस्तकालय को दान दी

हम भगवान् से प्रार्थना करते है कि इन बच्चों का भविष्य उज्जवल हो और सुख समृधि का इनके घर में वास हो.

यंग उत्तराखंड संस्था को इस कैंप के सफल आयोजन के लिए दी गयी धन राशी देने वाले दानी दाताओं की सूची:



यंग उत्तराखंड अपने उन तमाम प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष आर्थिक रूप से सहायता करने वाले उन सभी दानी दाताओं और एक शब्द में कहों तो सहयोग कर्ताओं का दिल से धन्याबाद करते हैं जिनके सहयोग के बिना शायद ये काम मुश्किल ही नहीं नामुमकिन था.

१. सर्व श्री चंद्रकांत नेगी जी - 5000
२. सर्व श्री गणेश बिजल्वान - 5000
३. सर्व श्री सौरभ नाकोटी - 1000
४. प्रकाश सिंह बिष्ट - 500
५. श्रीमती अलका गोदियाल भट्ट - 2000
६. सर्व श्री जय गुसाई -500
७. गुप्त दान -1000
८. सर्व श्री सुभाष कुकरेती -500
९- सर्व श्री विजय पाल सिंह - 500
१०. श्रीमती अनीता डिमरी -5000
११. सर्व श्री जसदेव सिंह नेगी -1000
१२. सर्व श्री दीपक -500
१३. सर्व श्री आशीष पांथरी 1000
१४. सर्व श्री निर्मल पांडे-500
१५. सर्व श्री प्रताप थाल्वाल 151
१६. सर्व श्री शांतनु सिंह -1000
१७. सर्व श्री पंकज पटवाल -500
१८. सर्व श्री सुशील सेंदवाल - 500
१९. सर्व श्री हेमेन्द्र गुसाई -5000





कुछ पंक्तियाँ याद आ रही है-

तन से सेवा कीजिये, मन से भले विचार
धन से इस संसार में, करिए पर उपकार.


ऐसी वैचारिक और परोपकारी सोच रखने वालों की आज भी हमारे समाज में कमी नहीं है. एक बार पुनह इन सभी सहयोगकर्ताओं का सहृदय धन्यावाद

समापन समारोह:

कैंप के समापन पर यंग उत्तराखंड टीम के वरिष्ठ सदस्य श्री चंद्रकांत नेगी जी द्वारा विद्यालय परिसर एवं आदरणीय प्रधान्चार्य महोदय और समस्त गुरुजन वर्ग को पूरी संस्था की ओर से धन्यबाद प्रेषित किया गया जो कि उन्होंने संस्था को इस विद्यालय परिसर भी कैंप लगाने का अवसर प्रदान किया. प्रत्युतर में विद्यालय के प्रधानाचार्य द्वारा सभी सदस्यों को धन्यबाद दिया और संस्था द्वारा संचालित ऐसे सामाजिक कार्यों की भूरी भूरी प्रंशंसा की. प्रधानाचार्य महादोय ने भविष्य में भी ऐसे ओर कैंप लगाने का निवेदन संस्था से किया और संस्था के उज्जवल भविष्य की कामना की.



अंतत:

कवि मथिलीशरण जी की २ पंक्तियाँ याद आ रही है-

मैं यहाँ नहीं संदेशा स्वर्ग का लाया
इस पृथिवी को ही स्वर्ग बनाने आया


कितनी बड़ी बात मथिलीशरण गुप्त जी ने इन २ पंक्तियों में कही है, अगर हम सभी लोग इन पंकित्यों का अर्थ समझ ले और उसको आत्म सात करने की कोशिश करें तो जरूर एक दिन यह पृथिवी स्वर्ग बन जाएगी, न कोई भूखा सोयेगा, ना कोई पानी के लिए तरसेगा, न कोई जाड़े की कंपकपाती ठण्ड में ठिठुरता हुआ नजर आएगा, न कोई बच्चा अशिक्षित रहेगा, न कोई केवल इसलिए अपनी मृत्यु को प्राप्त करेगा कि इलाज के लिए उसके पास पैसा नहीं था. एक सभ्य समाज बनेगा, एक संस्कारित समाज बनेगा, एक दयावान समाज बनेगा और सबसे बड़ी बात एक आदर्श राष्ट्र का निर्माण होगा जिसमे ये सभी गुण समायोजित होंगे.

इस प्रकार के शिवरों का आयोजन समाज में एक चेतना जगाने के लिए और एक सुसंस्कृत और शैक्षिक समाज बनाने के लिए इस आशा के साथ किया जाता है कि आने वाली पीढ़ी और समाज को इसका १०गुना होके ब्याज मिले अर्थात उनको इसका १० गुना होके लाभ मिले.

रास्ता है लम्बा
मंजिल है दूर
मिलके चलेंगे मिलके जरूर
हम हैं नए नयी है सोच हम चलेंगे तान के जोश
अब हमें कोई दर नहीं
जब मिलकर चलते है हम सभी



इसी आशा के साथ कि अभी हमारी मंजिल बहुत दूर है, हमें अपने समाज को बहुत कुछ लौटाना है जिसने आज हमें इतना सब कुछ दिया, कहते है कि मात्री और पित्र ऋण को कभी भी नहीं चुकाया जा सकता है, उसी प्रकार हमारे उपर एक और ऋण है वो है हमारी इस जन्म और कर्म भूमि का ऋण जो हम कभी नहीं चुका सकते बस अपनी तरफ से केवल एक कोशिश जरूर कर सकते है. आप सभी लोगों से विनती है कि इस कारवां में तन मन और धन जुड़िये और एक नयी चेतना का विकास समाज में प्रज्वलित करें.

हमारा मकसद केवल कैरियर गाईडेंस कैंप तक ही सीमित नहीं है,. हम उत्तराखंड के उज्जवल भविष्य के लिए और उत्तराखंड के जन समूह, उत्तराखंड की लोक संस्कृति,साहित्य और समाज के लिए हर वो कार्य अपनी क्षमतानुसार करना चाहते है, जिसमे लोक हित छिपा हो, जिसमे उत्तराखंड का विकास निहित और और जिसमे एक सभ्य समाज की परिकल्पना कल्पित हो. आप सभी सदस्यों का अमूल्य योगदान इसमें वांछनीय है.

अंत में कवि की इन पंक्तियों के साथ छोड़े जा रहा हूँ कि जरूर कल एक सबेरा होगा और हर प्रकाशमयी सबेरे के साथ हमारे साथ नव चेतना से परिपूर्ण, अपनी मातृभूमि और जन्मभूमि के लिए समर्पित भाव से काम करने वाले लोग जुड़ते जायेंगे और एक नया सामाजिक कारवां बनता जायेगा.

देख दुर्भाग्य धीरज न खोना,
शीघ्र शौभाग्य फेरा लगेगा
रात्रि जितनी अँधेरी रहेगी भोर उतना उजेरा लगेगा



आपके बहुमूल्य सुझावों और प्रतिक्रियाओं का हमेशा तहे दिल से स्वागत किया जाता है. इस कैंप के बारे में भी यदि आपके पास कुछ सुझाव है तो जरूर हम तक पहुचाएं, निश्चित रूप से आपके सुझाव आने वाले सामाजिक कैरियर गाईडेंस कैंप में सहायता प्रदान करेंगे. इस कैंप के बारे में ज्यादा जानकारी प्राप्त करने के लिए यंग उत्तराखंड डिस्कसन फोरम पर आएये.वहा पर आप कैंप से समबन्धित फोटोस और वीडियोज का आनंद ले सकते है.


http://www.younguttarakhand.com/community/index.php
http://www.younguttarakhand.com/
जय हिंद जय उत्तराखंड
सुभाष काण्डपाल

आवा गढ़वाळी सिखला -१३

Let us Learn Garhwali -13
Bhishma Kukreti
व्याकरण (Grammar )
अविकारी पद (अव्यय )
गढवाली मा अविकारी श्ब्दुं भरमार च . अविकारी शब्द चार किस्मों होंदन पण गढवाली मा पांच किस्मौ अव्यय होंदन
१- क्रिया विशेषण
१अ - कालवाचक ------ अब्बी, ब्याळी /ब्याले , भोळ, अज्युं , एकदां , कैबरी -कैबरी
१ब - स्थानवाचक ------अगने, ऐंच , ढीस, मळथूण , मथि, मूड़
१ स - रीतिवाचक ----- ठंडो - मठों/ ठnडु -मठु , अन्कैक /औंकैक , घल्ल
1 ड़ - प्रश्नवाचक -----किले, क्थ्गा, कख
१ इ- परिमाणवाचक -- अति, थुपडोंन , इच्छि, बिंडि
१ फ -कारणवाचक - यान, इलै
१ ग - स्वीकार्वाच्क --योअ, हूँअ , हो
1 ह - निषेधवाचक - ऊंह , अहाँ , कर्तना ,
२- सम्बन्ध वोधक
ऐथर, बगैर, सी, दगडे ,
३- स्म्मुच्च्य वोधक
3a - संयोजक ----- अर, बि,
३ब - वियोजक -- चा, निथर
३स - विरोध दर्शक --- पर
३ द - परिमाण दर्शक -- यान /इलै
3 ई - कारण वाचक - किलेक़ि
३ फ - उद्देश्य वाचक - जनकी /ज्याँक़ि
३ ग - संकेत वाचक ---- जु, त
h - व्याख्या वाचक -- हैंकि ऩा ! यानी क़ि !
४ - विस्मयबोधक
स्या !, दयार ! , चूचो ! यूँ ! हे राम दा ! हैं ! ह्व़ा !
५ - अनुकार मूलक
टळपळ- टळपळ, ख्ल्तं , खीं -च्वी, पुल्ल - पुल्ल , सड़म. द्ड्म, च्यां

सीएम वंश की असंतुष्टि

लोक के तंत्र में ‘सीएम’ वंशीय प्राणियों की असंतुष्टि का असर क्लासरूम तक में पहुंच चुका था। मास्टर जी बेंत थामे थे। मगर, बेंत का मनचाहा इस्तेमाल न कर पाने से वे बेहद असंतुष्ट भी थे। विधायिका और कार्यपालिका नामना कक्षा के छात्र मास्साब की बेंत से बेखौफ उनके हर आदेश का ‘अमल’ निकालकर प्रयोग कर रहे थे। सो मुछों पर ताव देकर मास्साब ने छात्रों से ‘सीएम’ वंश की असंतुष्टि पर निबन्ध तैयार करने को कहा। फरमान जारी होते ही कक्षा में सन्नाटा सा पसर गया। क्योंकि वे छात्र भी एक सीएम (कामनमैन) वर्ग से जो जुड़े थे। सभी छात्र निबन्ध पत्र की कापी तैयार करने के लिए मुंडों को जोड़कर बौद्धिक चिंतन में मशरूफ हो गये। निश्चित ही छात्रों ने भी अपनी ज्ञान ग्रन्थियों को खोलकर काफी कुछ लिखा। इस काफी कुछ से सार-सार के संपादित अंश सैंदिष्ट हैं।
‘सीएम’ वंश की धराओं का भूगोल समाज सापेक्ष संस्कृति में दो पंथों में विभक्त है। एक निगुण धारा। जोकि ‘कामनमैन’ के रूप में यथास्थिति वाद पर किंकर्तव्यविमूढ़ है। निगुण इसलिए, क्योंकि ‘सीएम’ इनके लिए कुछ भी अच्छा कर दे ये उसका गुण नहीं मानते हैं। तो दूसरा सगुण मार्गीय ‘चीफ मिनिस्टर’ पंथ। जोकि हाईकमान की नित्य पाद् पूजा के निहितार्थ को जानता है। वह अपनी मूल बिरादर वंश की अपेक्षा हाईकमान को ही तरजीह देता है। आखिर कुर्सी के नीचे पद का गलीचा हाईकमान का ही है।
भेद-विभेद के बावजूद दोनों पंथ एक दूसरे के पूरक भी हैं और यदाकदा विरोधी भी। एक वोट देता है, दूसरा वोट मांगने के साथ ही छीनता भी है। एक उत्तरोत्तर विकास की अभिलाषा में बार-बार ठगा जाता है। दूसरा ‘ठग’ कला में उत्तरोत्तर पारंगतता हासिल करता है। नतीजा कि ‘माया महा ठगनी....’ की अर्थवत्ता के बाद भी एक महीन रेखा में दोनों आपस में बंधे रहते हैं। इस रेखा का प्रतिकाकार कभी गाढ़ा हो उठता है और कभी फासलों में अनपेक्षित दूरी भी बना डालता है। निगुण पंथी जहां सतत् विकास के दावों की हकीकत जानने के बाद भी दलीय निष्ठाओं के चलते संतुष्ट होने का प्रयास करता है। तो सगुण मार्गी विकास के लिए ‘बांक’ भर देने से संतुष्ट नहीं होता। बल्कि बांक देने की परंपरा पर अविश्वास भी जाहिर करता है। यही वक्त होता है। जब सगुण ‘सीएम’ निज तुष्टि का राजफाश करने की बजाय ‘असंतुष्टि राग’ को ‘तोड़ा’ बनाकर यथासमय ‘बिलम्बित’ ताल की संगत में गाता चला जाता है। और दूसरा सीएम महज इसलिए तुष्ट कि पहला ‘सीएम’ असंतुष्ट तो है। हालांकि आमतौर पर यह रणनीतिकारों की मत सम्मति का भाव नहीं है।
असंतुष्टि को प्रायः गति व प्रगति का कर्ता माना जाता है। जब कुर्सी वाला सीएम राग असंतुष्ट की प्रस्तुति से विभोर हो तो, जन्मना ‘असंतुष्ट’ सीएम (कामनमैन) निश्चित ही अपने असंतुष्टि के शेयरों को ‘दलाल पथ’ में भुनाने की कोशिश करता है। हालांकि वहां भी उनके धड़ाम होने में देर नहीं लगती। सो आखिर में उसे वोटों की बिकवाली का सहारा लेकर अपना अस्तित्व गांठने का इंतजाम हर हाल में करना होता है। लिहाजा दूसर ‘सीएम’ की अपेक्षा कामनमैन के मौजूं असंतोष में विस्मय जैसा कुछ भी उभरकर नहीं आता।
क्लासरूम में जहां सभी छात्र निबन्ध के बंधैं को निपुण जुलाहे की भांति तांत-तांत बुन रहे थे। तो वहीं मास्साब रूटीन चैकिंग में सभी कापियों से सार-सार गह रहे थे। कि, कामन सीएम की संगत के चिरंतन ठौर चाय-काफी हाऊस हुआ करते हैं। जहां वे अपनी दलीय निष्ठाओं के साथ तुर्की बा तुर्की धोबी पछाड़ का दांव आपस में हमेशा खेलते हैं। इस दौरान यदि तर्क-वितर्क की गेंद हाफबॉली हुई तो समझो लगा छक्का और ‘सुदामा’ की गेंद हुई तो गई जमुना में। हालांकि तब भी सचिव ब्रांड रेफरी उनका रन काउंट नहीं करता है। वहीं गेंद यदि बाऊंस हुई तो दूसरा सीएम अक्सर बल्ले के साथ खुद को भी लाइन से हटा लेता है। ऐसे में इन अड्डों पर बौद्धिक जुगाली का माहौल तापमान के सेल्सियस बढ़ा देता है। निष्कर्षतः तेल कितना पिरोया गया, इसमें कामनमैन के सरोकार भले ही झाग बनाने तक ही सीमित रहते हों। मगर ‘संजयों’ को मालूम है कि, कई बार इस तेल का असर ‘वियाग्रा’ से भी मारक होता है। उधर ‘सीएम’ जानते हैं कि, उनका ‘राग असंतुष्ट’ बंदरों को बंटवारे के बाद भी उन्हें संतुष्ट रखेगा। क्योंकि उनका काम भी सिर्फ तुष्ट रखना है। पुष्ट रखना कदापि नहीं। असंतुष्ट रथ के सारथी ‘सीएम’ की दिशा दशा का वर्णन करते हुए छात्रों ने लिखा कि, इस वर्ग का प्राणी राजभोग की विलासिता में तो संतुष्ट रहता है। किंतु, वैभव की कुर्सी के पायों की स्तंभन शक्ति के लिए ‘वियोगी होगा.....’ की शैली में हमेशा असंतुष्टि के विराट दर्शन देता है। ताकि निगुण सीएम अपनी तुष्टि के सपनों को उनकी तुष्टि से ‘मैच’ न कर सके।
निबन्धीकरण के दौरान छात्रों की कापियों से मास्टर जी का टेपीकरण अभियान जारी था। वे छात्रों के ‘सीएम’ ज्ञान से अविभूत भी नजर आ रहे थे। लेकिन वे भी संतुष्टि के अपने भावों को सगुण ‘सीएम’ की तरह चेहरे पर आने से रोके हुए थे। मास्साब निबन्ध का निष्कर्ष जानना चाहते थे। परन्तु, छात्रों ने भी उतावलेपन की बजाय ‘वेट एण्ड वाच’ के लक्षणों को ही अपनी आखिरी पंक्तियों में उद्धृत किया।

मुण्ड निखोळु

गौळा फर हरेक मनखी का,
बध्याँ छन बंधन,
जौंका फेर मा अल्झ्युं छ,
यीं दुनियाँ का जाळ मा,
कुछ मनखी पहाड़ का हम,
प्रदेश मा रूमणाणा छौं,
मन भटकणु छ कखि,
वे प्यारा कुमौं अर गढ़वाल मा.

रात दिन सोचणा छौं,
कब निब्टलि प्रदेश की जिंदगी,
तब जौला "मुण्ड निखोळु" करिक,
अपणा प्यारा मुल्क,
रौला सुखि हाल मा,
देवभूमि उत्तराखंड का,
प्यारा कुमौं अर गढ़वाल मा.

जागणा होला हमतैं,
अपणा मुल्क का प्यारा,
घन्ना, मंगतु अर मोळु,
हमारा मन भी उलार छ,
कब होलु "मुण्ड निखोळु".

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(यंग उत्तराखंड और मेरा पहाड़ पर प्रकाशित और सर्वाधिकार सुरक्षित)
दिनांक: ७-९-२०१०

देवभूमि तेरा दर्द

तिस्वाळे हैं गाँवों के धारे,
नदियाँ हैं तो प्यासे लोग,
कैसे बुझेगी पर्वतजनों की तीस?
देखो कैसा हैं संयोग.

प्राकृतिक संसाधन बहुत हैं,
मनमोहक प्रकृति का सृंगार,
पलायन कर गए पर्वतजन,
जहाँ मिला उन्हें रोजगार.

रंग बिरंगे फूल खिलते हैं,
जंगलों में पक्षी करते करवल,
वीरानी छा रही गावों में,
कम है मनख्यौं की हलचल.

जंगल जो मंगलमय हैं,
हर साल जल जाते हैं,
कितने ही वन्य जीव,
अग्नि में मर जाते हैं.

पुंगड़े हैं बंजर हो रहे,
कौन लगाएगा उन पर हल?
हळ्या अब मिलते नहीं,
बैल भी हो गए अब दुर्लभ.

पशुधन अब पहाड़ का,
लगभग हो रहा है गायब,
छाँछ, नौण भी दुर्लभ,
घर्या घ्यू नहीं मिलता अब.

ढोल दमाऊँ खामोश हैं,
ढोली क्यों उसे बजाए,
हो रहा है त्रिस्कार उसका,
परिजनों को क्या खिलाए.

नदियों को है बाँध दिया,
गायों को है खोल दिया,
देवभूमि की परंपरा नहीं,
हे मानव ऐसा क्यों किया?

हे पर्वतजनों चिंतन करो,
सरकार अपनी राज्य है अपना,
"देवभूमि तेरा दर्द" बढ़ता ही गया,
साकार नहीं सबका सपना.

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(सर्वाधिकार सुरक्षित, मेरा पहाड़, यंग उत्तराखंड पर प्रकाशित)
(१६.८.२०१०)दूरभास: 09868795187
जन्मभूमि: बागी-नौसा, चन्द्रबदनी, टिहरी गढ़वाल

दयब्तौ की खोज !

बोड़ी चौकम छे बैठी ! आंदा जान्दो दगड छे बच्याणी , कि तैबेरी , मेल्या खोलै रामचन्देरी वाख्म एकी बोड़ी से छुई लगाद लगाद पूछंण बैठी

"... हे जी , तुमल भी सुणी ? "
बोड़ी बोली .. "--- क्या ?"

".. ह्या , बुने, क्वाठा भीतर का वो जेवोर , जौकु नौ .... कने लियु उकु नौ " ! बिन्गैकी की बुलद "------ जौक नौ, स्युजू तुमरा देलम बैठुच ! "
बोड़ील वे जाने देखी आर बोली .. " वो कुता सिंह ..! ."

"हांजी, हां ...! " वी--- वी .... "
वीजने घूरी की बोड़ी बोली " ----- कनु क्या ह्वे कुता सिंह थै ? "
" -----सुणम.. आई कि, उकु नाती घोर च बल औणु , अपना दादा प्रददौ कि कुड़ी थै दिखनो अर अपणा नार्सिंग देब्तो कि पुजाई कनु ? "

"---हाँ --- हाँ !" ददल ,त, नि खोजी आज तक अपणी गौंकु बाटु, अपणी पुगाड़ी - पटुली ! ताखुँदै राई ता जिन्दगी भर ! बोई बाटु हेरी २ मोरीगे ! कुड़ी धुर्पाली उजड़ी गीनी !

न उ आयु अर ना नौनी ! द्वी पड़ी तक कैल भी याख्की शुद्ध नि ले ! बोड़ील , सांस लेकी अर वेकि कुड़ी जाने हेरी बोली .... " ब्वारी .. मित बुनू छो कि, यु नर्सिंग इनी ताखुन्दा बस्या लुखो थै भी नाचे नाचे घोर बुलादु ना त कनु छायू ! पैल, ये सबी नौकरी खुज्यणु तखुन्द गिनी ! अर, अब , वो सबी ..., ये जनि अपणा अपणा दय्बतो थै खुज्यानु घोर ऐ जांदा ना..., त , हे पणमेस्वरा .. मी भी त्वेमा सबा रुपया चढाई ध्युलू ! चला , भलु ह्वे वे द्याब्तो जैल वेका नाती पर अपणु रंग दिखाई ! अर वो घर बाड़ी ह्वे !


पराशर गौर
दिनाक ४ अगस्त २०१० स्याम ६ ५३ पर

बसगाळ्या बरखा

चौक मा चचेन्डी, तोमड़ी लगिं,
कुयेड़ी लगिं घनघोर,
तितरू बासणु गौं का न्योड़ु,
द्योरू होयुं अंध्याघोर.

मनखी बैठ्याँ भितर फुंड,
बरखा लगिं झकझोर,
फूल्टी भरी ऊस्यौण लग्याँ,
मुंगरी, गौथ अर तोर.

हरीं भरीं दिखेण लगिं,
कोदा झंगोरा की सार,
डांडी कांठ्यौं मा छयुं छ,
संगति हर्युं रंग हपार.

रसमसु होयुं छ द्योरू,
बगदा बथौं कू फुम्फ्याट,
कखि दूर सुणेण लग्युं,
गाड गद्न्यौं कू सुंस्याट.

विरह वेदना मन मा लगिं,
पति जौंका परदेश,
देवतौं छन मनौण लगिं,
कब बौड़ि आला गढ़देश.

छोरा छन कौंताळ मचौणा,
ऐगि "बसगाळ्या बरखा",
दादा दादी बोन्न लग्याँ,
हे बेटों भितर सरका.

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(१.८.२०१०)
दिल्ली प्रवास से.....

अतीत उबरी यनु थौ

रज्जा का जमाना मा, जनतान बिगार बोकी,
होणी खाणी कनुकै होण, शिक्षा कू विकास रोकी.

जनता का खातिर रज्जा, बल बोलान्दु बद्रीनाथ थौ,
अनपढ़ जनता कू भाग, संत्री-मंत्रियों का हाथ थौ.

आजादी का बाद भी, लोग भूखा तीसा रैन,
आस अर औलादन, कंडाळी,खैणा-तिमला खैन.

लाणु पैन्नु यनु थौ, टल्लौं मा टल्ला लगौंदा,
रात सेण कनुकै थौ, खटमल, ऊपाणा खूब तड़कौन्दा

उबरी बाटौं कू हिटणु थौ, सैणी सड़क दूर थै,
जख भी जाण हिटिक, जनता भौत मजबूर थै.

आजादी का बाद पाड़ मा, सब्बि नौना नौनी स्कूल गैन,
शिक्षा प्राप्ति का बाद, रोजगार का खातिर प्रवासी ह्वेन.

विकास की बयार बगि, अब यनु निछ पहाड़ मा,
अतीत उबरी यनु थौ, अब मनखी कम छ पाड़ मा.

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(२८.७.२०१०)
दिल्ली प्रवास से.....

लग्याँ छन जुगाड़ मा

जिन्दगी चन्नि छ सब्यौं की,
मन मारिक जन भि चलु,
महंगाई की मार मा,
कनुकै पळलि आस औलाद,
हमारा देश का सब्बि मनखी,
लग्याँ छन जुगाड़ मा.

कटणि छ जनता की जेब,
जौंका खातिर,
ऊ सब्बि ठगणा छन,
भोली-भाली जनता तैं,
राजनीती की आड़ मा,
सत्तापक्ष अर विपक्ष द्वी,
सत्ता का खातिर,
लग्याँ छन जुगाड़ मा.

पहाड़ कू घर्या घ्यू ,
दाळ, गौथ अर तोर,
छौंकण का खातिर जख्या,
कख बिटि मिललु,
सोचदा छन ऊ,
जू नि रन्दन पाड़ मा,
कु होलु यनु रिश्तेदार,
प्यारा पाड़ मा,
जू भेजि द्यो कैमु,
लग्याँ छन जुगाड़ मा.

उत्तराखंडी कवि,
लिख्दा छन पहाड़ फर,
रन्दा नि छन पाड़ मा,
कल्पना करदा छन,
कविता लिखण सी पैलि,
कनुकै लिखौं सुन्दर कविता,
लग्याँ छन जुगाड़ मा.

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(२८.७.२०१०)
दिल्ली प्रवास से.....

पहाड़ सी ऊंचा

मनखी का इरादा,
मेहनत अर लग्न,
साकार करदि सुपिना,
होन्दि छ लक्ष्य की प्राप्ति,
मिल्दि छ प्रसिद्धि,
मन मा भारी सकून,
पहाड़ सी उंचा ऊठिक.

पहाड़ प्रेरणादायक छन,
अटल इरादा कू संचार होन्दु छ ,
मनखी का मन मा,
कल्पनाशीलता पैदा होन्दि छ,
कवि, लेखक, छायाकार,
गितांग का मन मा.

बहादुरी कू भाव पैदा होन्दु,
सैनिक का मन मा,
जन, माधो सिंह भण्डारी,
गबर सिंह, दरमियान सिंह,
वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली,
उत्तराखंड आन्दोलन का शहीद,
जौंका इरादा अर काम,
"पहाड़ सी ऊंचा" था.
रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(२५.७.२०१०)

Critical History of Garhwali Poetry

History of Indian Language Literature
History of Himalayan Literature
History of Garhwali Literature
Critical History of Garhwali Poetry
Parvati : Collection of 100 Lyrical Garhwali Poems by Abodh Bandhu Bahuguna
Bhishma Kukreti
Abodh Bandhu Bahuguna does not need any introduction in Garhwali literature. Bahuguna did not leave any creative field of language literature in garhwali which, he did not touch. Parvati is poetry collection createdd by Abodh in fifties and sistees and published in 1966 (second edition published in 1994 with Hindi translation of all poems )
Famous Garhwali language critic Dr Govind Chatak rightly said that there is enthusiasm of youth and there is pathos in the poems because there are hundred Garhwali poems in Parvati and all are with different subjects, diverse emotions and raptures. Dr Chatak further states that in this poetry collection, Bahuguna touched many known and unknown subject related to society and the hope or aspiration of developing garhwali society.
Writing introductory note, dr Shiva Nand Nautiyal describes the poems of Bahuguna of Parvati as showing the reality of place (Garhwal) , time and aroma of Garhwal. However, this author feels that the poems are aimed for intellectual people than common men.
Bahuguna narrates the life of Garhwali women very effectively and shows her different role as child she is sister of younger ones, lover, mother, grand mother , a hard worker, an economist, and warrior too . Bahuguna has been successful in showing the emotions of women’ pain, love, separation from her husband , waiting for good happening for her and family members, struggle in caring for family at all stages of life, sacrifices of Garhwali women.
Abodh Bandhu Bahuguna reaches on his height when he recites the struggle of Garhwalis in their village. The readers relate their life with the poems and that make Bahuguna a successful poet of Garhwali.
In totality there are more than hundred subject in this poetry collection, which Bahuguna touched efficiently .
From language point of view, he used all types of words aimed mostly to intellectuals and even his experiment on creating new words are aimed to intellectuals rather than common men. This author is of opinion that nothing is wrong for aiming intellectuals by Bahuguna.
From the points of view of poetic construction, subject and total effect , renowned garhwali literature expert Dr Hari Datt Bhatt Shailesh states that there is mirror of Garhwal in the poems of Bahuguna. Balvant Singh Bisht stresses that the poems of Abodh Bahuguna are sensual and sensitive.
This poetry collection Parvati has significance in Garhwali literature because after its publications the poets of Garhwali language got inspiration and hope that there is substance in creating and publishing Garhwali literature.

Parvati
Collection of 100 lyrical Garhwali poems
(first edition in 1966 and second edition in 1994)
By : Abodh Bandhu Bahuguna
Garhwali Prakashan
B-2, B 48, Janakpuri, New Delhi 110058
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

Anjwal: One of the Great Satirical Poetry Collections in World Literature

History of Indian literature
History of Uttarakhand languages Literature
History of Garhwali literature
Critical History of Garhwali Poetry
Anjwal: One of the Great Satirical Poetry Collections in World Literature
(Review of Anjwal -Garhwali Poetry collection by Kanhaya Lal Dandriyal ‘The Great Poet’)
Bhishma Kukreti
No doubt, Sada Nand Kukreti (1923) initiated satire as serious business in Garhwali by publishing first Garhwali story Garhwali That’ in Vishal Kirti but in true sense in modern Garhwali poetic field, Kanhaya Lal Dandriyal used satirical poems as to make serious and even frightening remarks on the dangers of the sweeping social, economical, spiritual changes taking place throughout Garhwal and among migrated Garhwalis . Many critics as nathi Prasad Suyal state that we may find similarities in the work of Kanhya Lal Dandriyal and Horace, Persius, and Juvenal for Dandriyal’s satires about the life, vice, and moral decay Kanhaya Lal saw around him as ‘Garhwali Sanstha’ of this volume.
When Hindi critic Dr Manjula Dhoundiyal read poems of Anjwal, she said to this author “ I shall put Kanhaya Lal Dandriyal near to a French satirist of seventeenth century Roger Rabutin de Bussy for his wit and calmness in describing the changes”
Manmohan Jakhmola a post graduate in English literature, a literature lover and great admirer of Kanhaya Lal Dandriyal says that Dandriyal had to work hard for creating satirical Garhwali poems when most of the Garhwali poets were either following Hindi literature or busy in old style in terms of subject and versification, Kanhaya Lal came with new subject and the original satire of Garhwal into Garhwali literature. Jakhmola further says that Dandriyal might have worked hard in creating satire in Garhwali as eighteenth century American satirists as Lemuel Hopkins, Joel Barlow, Philip Freneau , John Trumbull, Hugh Henry Brackenridge did hard work in creating satire .
The second edition of Anjwal has fifty poems of Dandriyal. First issue was published in 1969 and Anjwal became a mile stone in the Garhwali poetic field that from here the Garhwali poems transformed style , body, subjects , and creativity of Garhwali poems as well the thinking of Garhwali poets . The Garhwali poems took new shape from conventional wisdom in many ways.
The poems show that Kanhaya Lal Dandriyal was very sensitive, had the eyes ofa critic and had the power of narrating serious and critical the subject through humorous and satirical methodology. Kanhya Lal show the putrefied social system through effective wit that readers laugh but feel acute pain inside their mind, intellect and ego. Madan Duklan a garhwali critic and editor states that the poems of Anjwal are provocative but do not create enmity among the society.
Famous Garhwali folk literature expert, Hindi dramatist, Hindi poet, story teller, critic Govind Chatak says that the satirical poems as Satya Narayan Brat Katha, Mi Garhwali chhaun, Dhyabron ki Rally, Garhwali sanstha, Hamaru Garhwal are the world class poems and these poems are one of best poems among two hundred best satirical poems of world literature. Lokesh Navani a Garhwali critic and Puran Pant a poet and editor state about these poems and other poems that these poems are the classic poems for international literature.
Girish Sundriyal a Garhwali poet says that his other poems Sarsu Sanhar, Thyakra are best examples of bringing realism with the capsule of satire and humor into Garhwali literature in seventies.
Harish Juyal a marvelous satirical Garhwali poet supports the statement of Dr Govind Chatak that style of Jagar. Rakhwali and Tantra Mantra in many Garhwali poems of Kanhya Lal Dandriyal are very effective and readers enjoy those poems by heart.
The garhwali critic and Garhwali literature publisher Nathi Prasad Suyal states , “ In the poems of Dandriyal , we find the mixer of realism, experiencing , pain for wrong changes happenings, and at the same time the poet provide suggestions to as teacher but differently than his predecessor Garhwali poets.”
Bhishma Kukreti wrote in the special issue of Hamri Chitthi about Kanhya Lal Dandriyal that the poems of Anjwal of Kanhya Lal Dandriyal are the inner experiences of a Garhwali women, which no Garhwali poet could touch so marvelously as Dandriyal did . Kukreti called Dandriyal as Ardh NariIswar at the time of creating poetries.
About the poems of Anjwal, Nathi Prasad Suyal and Dr Govind Chatak rightly said that Dandriyal did not leave any important aspect of life in Garhwal and life of migrated common Garhwalis.
Jaipal Singh Rawat a famous Garhwali symbolic poet state that no Garhwali poets of past as Dandriyal used Garhwali symbols so perfectly that even a common person can fully understand the meaning and insight of poems of Dandriyal.
Parashar Gaud the great admirer of Kanhaya Lal Dandriyal finds that Kanhaya Lal Dandriyal was expert of creating real images of rural Garhwal and life sketches of common migrated Garhwalis so effectively that makes him one of the greatest poets of all world languages.
Each poems of Anjwal take the readers to one important aspect of garhwali life of sixties and before.
Kanhya lal Dandriyal was the master of garhwali vocabulary and this poetry collection is the proof. The poems are so simple and under stable that a migrated Garhwali who never read Garhwali literature will also read all poems and will enjoy.
Anjwal is a heritage of world languages literature and we should arrange proper distribution of this poetry collection all corners of world among Garhwalis.

Anjwal
Poet : Kanhya Lal Dandriyal
Publisher:
Maulyar Prakashan
7 D, L.P. Maurya Enclave
Peetampura, Delhi, 110088
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

गढ़वाली व्यंजन / कुमाउनी व्यंजन / हिमालय के व्यंजन

Ethnic Food of Uttarakhand, Garhwali food, Kumauni Food, Ethnic Himalayan Food
गढ़वाली व्यंजन / कुमाउनी व्यंजन / हिमालय के व्यंजन
हरीश जुयाल (बदलपुर , गढ़वाल )

किसिम - किसिम का गढ़वळी व्यंजन
जुयाल़ा घरम आज प्क्याँ छन
आवा भैजी आवा जी
जु बि तुमर ज्यू ब्वनू च
कीटि -कीटि क खावा जी
दस भेली की सूजी खैन्डी च . छै नाल़ी क खुसका पक्युं
दल्यां चणो की दाळ धरीं च पुवौं न पुरो बिठलु भर्युं
भूड़ा -पक्वड़ा स्वाल़ा अरसा , लड्डू -पूरी , लगुड़ा -पटुड़ा
दड़बड़ी खिचड़ी, सड़बडु छ्न्च्या , चुनमंडो कु तौल धरयुं
आ ए दीदी , आ ए भुली , तु बि आ ए बौ ...
उड़द रयाँसू की दाळ पकीं च डिगचा धरयां छन छवाड़ मा
बासमती का चौंळ पकैकी तौला धरयां छन प्व़ार मा
लमींडा/ चचिंडा . ग्वदडि , छीमी , भिन्डी , लिंगुडा, खुन्तडा अर अचार
राई , मूल़ा, टुकुल, की भुजी तुमारो गिच्चाऊ खुण कर्युं ठुंगार
आ बोडी, आ काकी, आ मेरी समदण ...
ग्थ्वणि, फाणु , गिंजडि पकीं चा भदवल़ा छन भोरिक
फरफरी कौणि का भड्डू धरयां छन दाळ पकीं च तोर की
मूल़ा की थिंचवणि , पलिगौ धपड़ी , लया की चटणी , चून कु रोट
ड़्वळणि -झन्गवरु मरसा की भुजी कंड़ळी-बाडि घोट्म घोट
आ ये पौण ...
अल्लू क गुटका , ग्युं क फुल्का , निरपाणि की खीर पकीं
गैथुं का भरवाँ रवटलौं समणि घी की माँणि धरीं
तैडु गीन्ठी क परता भ्र्याँ छन ज्ख्या तुडका मा खूब भूटयां छन
ग्वीराळ , सकीना, बेथु , बसिंगू , बंसकल़ा ल्हेकी छन खुडक्यां
सिंगनि का ग्वबका घन्डाघोर , कुख्ड्या च्यूं का डेग धरयां
तिमला दाणी , खडिका टुक्कू , रौला प्फ्डी की भुजी बणी
टिमाटरूं कु झोंळ बन्यून च तुमारो खातिर झैळ लगीं
आवा कक्या सास जी , बड्या सास जी ...तू बि आ स्याळी जी
पीणा खुणी छांछ धरीं च , छांची मा नौणी गुंद्की घ्वलिँ
चटणा-खुणि आमे चटणि चटपटि, चसचसी , चटणि चिन्नी घ्वलिँ
फल फ्रूट मा लिम्बो क्छ्बोळी , पपीता खावा लूण रल्यूं
गल्ल प्क्याँ छन बेडु तिमला लूण दगड तेल रल्यूं
हैरी कखड़ी मा चिरखा दियां छन , भरवाँ लूण की चटणि पिसीं
हिसर , किन्गोड़ा ,करंडा , बिरन्गुळ, खैणा, हरड़, बयड़, किम्पू
टीपी टीपी तैं ढवकरा भ्र्याँ छन काफुलूं की कंडी भ्वरीन
घिन्घोरा , मेंलु, आडु, आम , औंल़ा, बेर दळम्याँ , बिजवरा
सेब, संतरा, घर्या क्याल़ा धाई लगाणा
आवा भैजी , अव्वा जी
सौंप सुपारी की जगा म्यारा सुप्प भर्याँ छन चूड़ा अर खाजा से
अखोड़ धरयां छन च्यडाउन दगड़म भ्न्ग्जीरो , तिल खूब रल्यां
काल़ा भट्ट का खाजा भुज्याँ छन कौन्यालुं का कुटरा ख्व्ल्याँ
मरसा क खील, ग्युं टाडा , मुगरी भूजिक ड़लुणा भ्रयाँ
छ्युंती म्याला , ब्वदल़ा टीपिक , सुरजा कौंल़ा धरयां तुम खुणि
बात हिटा को गुजारो कर्युं च भ्न्गुला तुमड़ा भ्रयाँ तुम खुणि
किसिम - किसिम का गढ़वळी व्यंजन
जुयाल़ा घरम आज प्क्याँ छन
आवा भैजी आवा जी
जु बि तुमर ज्यू ब्वनू च
कीटि -कीटि क खावा जी

सर्वाधिकार @ हरीश जुयाल, बदलपुर, पौड़ी गढ़वाल , उत्तराखंड २०१०

सौण/सावन कु मैना माने खीर कु मैना

Ethnic Food of Uttarakhand , Food of Garhwal, Food of Kumaun, Himalayan Food
सौण/सावन कु मैना माने खीर कु मैना (The month Savan means month of Kheer )
Bhishma Kukreti
गढ़वाळी -कुमाउनी पंचांग कु मुताबिक आज से (16-7-2010) सौण/सावन शुरू ह्व़े गे . आज गौं मा खीर बणाण से सौण की शुरुवात करे जांद
तकरीबन हर दुसर दिन गौं मा खीर बणये जांद. असल मा ये बगत सौण मा घास खूब होंद त गौड़ भैंस जादा दूध दीन्दन त खीर दुसर तीसर दिन बणदी .
खीर बणाणो तरीका क्या च ? चौंळ या झ्न्ग्वर तैं दूध, पाणी अर मिट्ठो दगड़ थड़कए जांद अर खीर तैयार . खीर बणणो उपरान्त खीर मा घ्यू /घी डाल़े जांद
गढवल़ी मा एक लोक गीत बि च
सौण मा खीर बणये जांद भौत
सयां जी खीर khaayi जयां
Copyright Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

भर्याँ रूटळ (Stuffed Roti )

रूटळया त्यौहार उत्तराखंड का प्रमुख त्यौहारों में गिना जत्ता है . यह त्यौहार आषाढ़ के अंतिम दिन याने सेक को आता है और शाम को भरीं रोटियाँ बनकर इस त्यौहार को मनाते है
Uttarakhand Food, Food of Garhwal, Kumauni Food , Himalayan food
भर्याँ रूटळ (Stuffed Roti )
भर्याँ रूटळ बणाण ब्युंत ( विशेज्ञता ) को काम च . उल्युं आटो कि लोई पुटुक दाळ कु मस्यट भरे जांद . मस्यट माने उस्यई दाळ तैं मैणु मसालों दगड़ पीसिक लोई जन बणाण . भर्याँ रूटळ जादातर रयांस या सूँट कि दाळ कु मस्यट से बणान्दन . भ्र्याँ रूटळ घ्यू / घी क दगड़ खये जांद

दारू देवी की कृपा सी

भौत दिनु बिटि,
बचपन कू,
एक लंगोट्या यार,
जैका दगड़ा,
ऊ प्यारा दिन बित्यन,
आज तक नि मिलि फेर,
अचाणचक्क,
मैकु वैकि याद आई,
वे लंगोट्या यार कू,
कैमु माग्युं,
मोबाइल नम्बर खुजाई,
फट्ट सी नंबर मिलाई,
वख बिटि लंगोट्या यार की,
गळबळ आवाज आई,
हे भाई कू छैं तू?

मैन बोलि, हे मकानु दा,
मैं छौं रे मैं, तेरु बचपन कू,
लंगोट्या यार खिम सिंह,
कन्नु छैं हे लाठ्याळा,
याद नि औन्दि त्वैकु मेरी?

अरे! दिदा क्या बोन्न,
मैकु भी तेरी,
याद भौत औन्दि छ,
जब रंदु मुक्क ढिक्याण पेट,
औन्दि छन मन मा ऊदौळि,
क्या बोन्न भुला अब,
शरील भी बुढया ह्वैगी,
अब "दारू देवी की कृपा सी",
जिन्दगी कटणि छ,
पैलि एक गिलास पेंदु छौं,
फेर पलंग मा सेन्दु छौं.

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
सर्वाधिकार सुरक्षित,

खाड्डु अर बाखरू नि छौं

सुपिना मा देखि मैन,
पाड़ पिड़ान घैल ह्वैक,
छट पटाण थौ लग्युं,
मैन पूछि, हे पाड़ जी क्या ह्वै?

पाड़जिन मैकु बताई,
आज मैं बिमार छौं,
पर कै सनै मै फर,
कतै दया नि औन्दि,
मेरा कपड़ा फटिग्यन,
मेरा बदन फर चीरा धर्यलन,
मैकु सदानि बुखार रंदु छ,
पीठ फर मेरा बणांग लगौन्दन,
क्या बतौँ, भौत सतौन्दन.

मैन बोलि पाड़ जी,
आपकी दुर्दशा देखिक,
मेरा मन मा भि,
भारी पिड़ा छ,
पर आज मनखि,
भारी स्वार्थी अर लालची ह्वैगी,
आपकी दुर्दशा वैका हाथन ह्वै.

हाँ यू सच छ,
हे कवि "जिज्ञासु",
क्वी नि पोंज्दु,
मेरा डळबळ औन्दा आंसू,
यनु न करा, हे मनख्यौं,
मैं "खाड्डु अर बाखरू नि छौं"

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
सर्वाधिकार सुरक्षित,

अपणि बोली भाषा"

उठाई मैन कलम,
लिख्यन मन का भाव,
प्रयोग करि अपणि भाषा,
यीं आस मा,
फललि फूलली,
"अपणि बोली भाषा",
यछ मेरा कवि मन की आशा.

भलु नि होन्दु भै बन्धु,
"अपणि बोली भाषा" कू त्रिस्कार,
संस्कृति कू नाश होन्दु,
जड़ सी मिटदा संस्कार.

अंग्रेजुन विश्व स्तर फर,
करि अपणी भाषा कू प्रसार,
आज विश्व स्तर फर होणु छ,
उंकी भाषा कू विस्तार.

देवतौं कू मुल्क हमारू,
प्यारू कुमायूं अर गढ़वाल,
कायम रलि भाषा संस्कृति?
मन मा ऊठणा छन सवाल.

रचनाकार: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(सर्वाधिकार सुरक्षित, यंग उत्तराखंड, मेरा पहाड़, पहाड़ी फोरम पर प्रकाशित)
३.७.२०१० को रचित....दिल्ली प्रवास से

Description of Tirth (Auspacious places ) of Garhwal in Mahabharata

History of Garhwali Literature

History of Garhwali Poetry

Description of Tirth (Auspacious places ) of Garhwal in Mahabharata

Bhishma Kukreti

In Indian Sanskrit literature creation, there is importance of Garhwal area from the tie of Vedas. It is said that Rishis and Mahrshis created Vedas in Garhwal area. Maharshi Ved Vyas created Mahabharata with the help of lord Ganesh in Garhwal area. There is a place called Vyas Chatti (banelsyun patti, Pauri Garhwal at the meeting place of rivers Ganges and Nayar) where sage Vyas did tapah.

The greatest poet of Sanskrit Kalidas belonged to Kaviltha village in Chamoli Garhwal. Kalidas described Garhwal beautifully and in details in Abhigyan Shankutalam and Kumar Sambhav.

Before Kalidas, we find the description of Garhwal in terms of geographical and demographical detailing in Mahabharata which was created before five thousand years back.

In ninety th chapter of Vanparv or Teerthparva , there is full details of geographical description of Garhwal (from 1 to 34 Shlokas) .

Mahabharata creator described the following rivers:

1- Yamuna

2- Sarswati

3- Ganges/Bhagirathi

4-Dwasdati

There is description of hot springs in Badrikashram (Badrinath )along with the bank of Ganges (Alaknanda )

From places point of view , the following shlokas are very important for knowing the historical back ground of Garhwal wherein the creator described about :प्लेसेस
सनतकुमार: कौरव्य पुण्यम कांखलम तथा
पर्व्तश्च पुरुर्नाम यत्र यात: पुरुरवा: (वनपर्व -९०, २२ )
भ्रिगुर्यत्र तपस्तेपे महर्षिगणसेविते
राजन स आश्रम: ख्यातो भृगुतुंगो महागिरी: (वनपर्व -९०, २३)
नारायण: प्र्भिवुष्णु शाश्वत: पुरुषोत्तम (वनपर्व, ९०, २४
तस्यातियशस: पुण्या: विशाला बद्री मनु
आश्रम: ख्याय्ते पुणय स्त्रीसु लोकेषु विश्रुत : (वनपर्व, ९०, २५ )
There is description of following areas in the above shlokas

1- Gangadwar (Haridwar)

2- Kankhal (Today’s Kankhal (haridwar)

3- Bhrigushring ( Today’s Bhrigukhal, Udaypur patti Pauri Garhwal near Haridwar )

4- Puru Parvat (the hill range starting from Haridwar to Kalon Dand (Lainsdawn)

5- Badrika Ashram (Badrinath area)

6- ganges near badrikashram (Alaknanda)

7- Nar Narayan mountains

There is also description of Kirat and Kinnars the original inhabitants of Garhwal in this chapter of Mahabharata

Copyright@ Bhishma Kukret, Mumbai, India, 2010

पटुड़ी

Garhwali Food, Kumaoni Food, Ethnic Food of Uttarakhad, Himalayan Food
पटुड़ी
Bhishma Kukreti
पटुड़ी माने कै मस्यटु मा लूण मर्च, मैणु -मसालों . ल्यासण, आदू पीसिक/मिलैक तेल मा रोट जन पकैक बणये जाव
पटुड़ी यांक बणान्दन :--
१- पितली (काचो दाण) मुगर्युं तैं सिलवट मा पीसिक मस्यट मा लूण मर्च मसालों मिलैक तवा या कढ़ाई मा रोट जन बणये जांद .
२- भिज्यां गौथ का मस्यट से
३- भिजयाँ उड़द कु मस्यट से
बकै कबी कबी हौरी भिजयाँ दालुं क मस्यट से बि पटुड़ी बणये जांद
Copyright @ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

भुज्याँ बुखण /खाजा (चबेना )

Garhwali Food, Kumaoni Food, Ethnic Food of Uttarakhand, Himalayan Food
भुज्याँ बुखण /खाजा (चबेना )
Bhishma Kukreti
जब अनाज या दाळऊँ तैं हिसरउन्द भुजे जाव त वै अनाज तैं बुखण बोल्दन.
मुख्य रूप से यूँ अनाज , तिलहन या दाळ ऊँ से बुखण बणये जान्दन :
१- मुंगरी
२- ग्युं
३- मर्सू
४- जुंडळ
५- भट्ट
६- चणा
७- तिल
सट्टी तैं बि भुजे जांद पण वान्खूण चूड़ा बुल्दन
बुखणु मा भुज्याँ भ्न्गुल-तिल , अखोड़, गुड़ रळऐक बुकये जांद .
Copyright@ Bhishma Kukreti , Mumbai, India, 2010

हिमालय बचावा

आज आवाज उठणि छ,
कैन करि यनु हाल वैकु,
हे चुचों! यनु त बतावा,
हिम विहीन होणु छ,
जख डाळु नि जम्दु,
हिमालय सी पैलि,
वे हरा भरा पहाड़ बचावा,
बांज, बुरांश, देवदार लगावा,
कुळैं कू मुक्क काळु करा,
जैका कारण लगदि छ आग,
सुखदु छ छोयों कू पाणी,
अंग्रेजु के देन छ कुळैं,
पहाड़ हमारा पराण छन,
वैकी सही कीमत पछाणा.

कनुकै बचलु हिमालय?
वैका न्योड़ु गाड़ी मोटर न ल्हिजावा,
तीर्थाटन की जगा पर्यटन संस्कृति,
जैका कारण होणु छ प्रदूषण,
पहाड़ की ऊँचाई तक,
ह्वै सकु बिल्कुल न फैलावा.

पहाड़ कूड़ा घर निछ,
प्रकृति का सृंगार मा खलल,
वीं सनै कतै न सतावा,
ये प्रकार सी प्रयास करिक,
प्यारा पहाड़ बचावा,
हिंवाळी काँठी "हिमालय बचावा".

रचनाकार: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(सर्वाधिकार सुरक्षित, यंग उत्तराखंड, मेरा पहाड़, पहाड़ी फोरम पर प्रकाशित)
2.7.2010 को रचित....दिल्ली प्रवास से

"नाती की पाती"

दादा चश्मा लगैक,
पढ़ण लग्युं छ,
"नाती की पाती",
क्या होलु लिख्युं?

नाती लिखणु छ,
दादा जी क्या बतौण,
तुमारी याद मैकु,
अब भौत सतौणि छ,
बचपन मा तुम दगड़ी,
जू दिन बितैन,
अहा! उंकी याद अब,
मन मा औणि छ.

आज भि मैं याद छ,
जै दिन मैन ऊछाद करि थौ,
तब आपन मैकु,
पुळैक खूब समझाई,
पर मेरा बाळा मन मा,
उबरी समझ नि आई.

अब मैं बिंगण लग्युं छौं,
आपसी आज दूर हवैग्यौं,
पुराणी यादु मा ख्वैग्यौं,
अब मैं जब घौर औलु,
चिठ्ठी मा जरूर लिख्यन,
क्या ल्ह्यौण तुमारा खातिर,
अब ख़त्म कन्नु छौं पाती,
तुमारा मन कू प्यारू,
मैं तुमारु नाती.

रचनाकार: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(सर्वाधिकार सुरक्षित, यंग उत्तराखंड, मेरा पहाड़, पहाड़ी फोरम पर प्रकाशित)
२१.८.२००७ को रचित....दिल्ली प्रवास से

उसयाँ बुखण

Kumaoni Food, Garhwali Food, Ethnic Food of Uttarakhand , Himalayan Food
उसयाँ बुखण
Bhishma Kukreti
बुखण माने जू बुकये जांद . . बुखण द्वी बनिक होंदन . अनाज/दाळऊँ तैं भुजिक बणयाँ बुखण या अनाज/ दालुं उसयाँ बुखण .
अनाज / दाळ तैं इखुली या रल़ो मिसों करिक उसए जांद अर उसयाँ बुखणु मा पिस्युं लूण मर्च मिलैक उन्नी खै ल्याओ
निथर बुखणु तैं छौंके बि जांद . छौंकणोऊ तेल मा पैलि भ्न्गुल को छौंका लगये जांद फिर बुखणु तैं लूण मर्च, मैणु मसालों दगड़ छौंके जान्दन
उन दाळ क उसयाँ बुखणु तै पीसिक मस्यट बि बणदू जंक साग बणदू भर्याँ रूटळ/स्वाळ बणदन
उसयाँ बुखण कुणि अनाज :----
मुगरी
दाळ क बूखण ::---
गौथ
सूँट
लुब्या (राजमा )
रयांस
चणा
भट्ट
Copyright @ Bhishma Kukreti, mumbai, India, 2010

पहाड़ी लोग केकड़ा क्यों नहीं खाते हैं ?

Kumaoni Dishes, Garhwali Dishes, Ethnic Dishes of Uttarakhand, Himalayn Dishes
पहाड़ी लोग केकड़ा क्यों नहीं खाते हैं ?
Bhishma Kukreti
उत्तराखंड में पीने के पानी (धार) के आस पास केकड़े (गिगुड़ , Crabs) बहुतायत में पाए जाते हैं .
किन्तु पहाडी केकड़े नहीं खाते हैं. हाँ मैदान में विषेशत: मुंबई में खा लेते हैं .
पहाड़ों में केकड़ा न खाने का मुख्य कारण है कि केकड़ा (गिगुड ) भूतों का खाना माना जाता है.
भूत पूजै में केकड़े को भूतों के खाने के साथ चढाया जाता है . यही कारण है कि पहाड़ों में केकड़ा नहीं खाया जाता है
इखाडी/इकहड़ी रोटी भी नहीं खायी जाती है
इकहडी अथवा इखाड़ी रोटी का अर्थ है है कि जो रोटी एक ही और पकाई जाती हो . पहाड़ों में इखाड़ी रोटी भी नही खाई जाती है क्योंकि
इखाड़ी रोटी भी भूतों के भोजन स्वरुप भूत पूजा में चढाई जातीं है (खासकर बच्चों पर लगे भूत शांति हेतु )
Copyright @ Bhishma Kukreti , Mumbai, India, 2010

Garhwal ka Jatiy Itihas -5

History of Garhwal
Garhwal ka Jatiy Itihas -5
Brief History about Pandas of Devprayag ( Diprayagi Pandon ka Itihas )
Original write up : Mohan Lal Babulkar
Presented by Bhishma Kukreti
the histroy of Devprayagi Pandas start from the time when Jagadguru Shankracharya established Badrinath /kedarnath dham and established Raghunath Ji temple in Dev Prayag around 800 AD. from that time, the Brahmins related to Shankrachary Math (South India) started to come to Garhwal and settled there including Dev Prayag
There are eight Thoks of Dev Prayagi Pandas in Dev Prayag (Many are migrated to many places )
Thok -1 : Pujari and Karnatak
Thok-2 : Arjunya, , Raibani and Babuliye
Thok-3 : Akhniyan and Maliya
Thok-4: Kothiya (Later on settled in Koti)
Thok-5- Todriya
Thok -6 -Tailang, , Tevadi, Bandoliya and Chaube
Thok-7- Dhayani or Dhyani (now, settled in many places as dev Prayagi Bhatt )
Thok 8- Maharashtra and Palyal
These Thoks are no mre in existence:
Pujari bans and Bavn Hajai
Mohan Babulkar states that these Pandas are Drvid, Tailang, karnatak, Guad or Maharashtrian

Himalayan Dishes, Recipes , Food, Dishes of Uttarakhand

Himalayan Dishes, Recipes , Food, Dishes of Uttarakhand , Recipes of Garhwal, Food of Kumaon
फाणु
Bhishma Kukreti
सामान्यत: फाणु गौथ (गहथ , कुलथ ) कु बणदू छौ . उन मूंग, हरड़ , उड़द , सूंट, मसूर कु बि फाणु बणद .
फा णु बणाणा खुण दाळ तैं भिजये जांद , फिर सिलवट/मिक्सी मा पीसिक मस्यट बणये जांद
फिर आंच मा धरीं कढ़ाई मा तेल डाळीक कुछ मस्यट से पट्यूड़/ या पकोड़ी बणये जांद .
पट्यूड़/ पकोड़ी तैं अलग धौरिक मस्यट तैं तेल में भुने जांद अर फिर लूण, मैणु मसाला आदी क दगड़ पाणि मिलैक थड़कए जांद . दगड़ मा
कट्यां हरा पत्ता ( प्याज, कण्डाळी , पलिंगु, मूल़ा, खीरा टुखुल ) बि डाल़े जान्दन .
जब फाणु तैयार ह्व़े जावू त फाणु मा पटुड़ी क टुकडा या पक्वड़ी डाळ दिए जांद
Copyright @ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

टेमरू कू लठ्ठा

अति प्यारू होन्दु छ,
नरसिंग देवता तैं,
जोगी सन्यास्यौं कू,
बाठ हिटण वाळौं कू,
हर घर मा रखदा छन,
हमारा पहाड़ मा,
नरसिंग देवता का,
मंदिर मंडुला मा,
झोळी का दगड़ा.

बद्री-केदार धाम मा,
चढौन्दा छन जात्री,
प्रसाद का रूप मा,
टेमरू की प्यारी पत्ती,
धोन्दा छन दांत,
टेमरू की डण्डिन,
ज्व दांत का खातिर,
तंत दवै भि छ.

आज येका अस्तित्व तैं,
पहाड़ मा खतरा पैदा ह्वैगी,
कथ्गा काम कू छ टेमरू,
धीरू-धीरू आज ख्वैगी.

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(सर्वाधिकार सुरक्षित एवं पहाड़ी फोरम, यंग उत्तराखंड, मेरा पहाड़ पर प्रकाशित दिनांक: १.७.२०१०)

जौन नि पस्सारी कबि हथ

सरय साल
बनै जु पुनगड़ी पटली
ये बस्गाल
सब्य बगिगैन |

ड़ाला ब्वाटों
दे खाद पाणि
लगीं फल
त सैडीगैन |

छाई छ जु कूड़ी
चून्दों क डौर से
वूंकी पाल्युन पर
तिडवाल पोडीगैन |

नोन्याल जु गै छ
पढ़णखु
वून्का बस्ता
घौर पोछिगैन |

अन्न पाणी
दवा - दारु
पौंछि नि सकदू
सड़की रयाड़
बनीगैन |

असमानमा
रिन्ग्दा बैरा गरूढ़का
आन्खाबी
फूटीगैन |

जौन नि पस्सारी
कबि हथ
कैका अग्ने
वी आज
मोहताज़
ह्वेगैन |

विजय मधुर

Tuesday, June 29, 2010

कुछ खाणक जू अब प्रचलन मा नी छन

Garhwali Recipes, Kumaoni Recipes, Uttarakhand Recipes, Himalayan Recipes
कुछ खाणक जू अब प्रचलन मा नी छन
Bhishma Kukreti
पैलि पहाड़ों की आर्थिक अर सामाजिक स्तिथि इन छे की भोजन का बान जंगळ पर निर्भरता जादा छे.
कुछ खाणक की जानकारी इन च जो अब प्रचलन मा नि छन:
१- तूंग को आटो : प्क्याँ तूंगऊँ दाणु तैं क्वादू , जौ दगड़ पीसिक आटो बणदो छौ
२- सकीनअ फूलूं पक्वड़ी ar Vegetable : शौकिया त अबी बि pakvdi ar bhujjee बणदी पण पैलि आम बात छे
३- सिरळ अ जळड़ऊं उपयोग : सिरळ अ जळडों तैं उसेक खाए जांद छौ

Copyright@ Bhishm Kukreti , Mumbai, India, 2010

बौण का फल (Fruits from forest)

Kumaoni Food , Garhwali Food, Uttarakhand Food, Himalayan Food
बौण का फल (Fruits from forest)
Bhishma Kukreti
डम्फू
मेहल (मेंलु )
वन मेहल
दाड़िम (द्लिमु )
एनोना
जंगली सर्रफ्फा
वन पाटी
चूड़ा
चालटा
वेळ कुण्डी
सेमळ
बेळ
बेर
घिंघारू
आमड़ा
भिनु
हिसर
काली हिसर
पाणी क काफल
भमोरा
बहेड़ा
तिमल
बेडु
खैणु
औंल़ा
डांडों काफळ
किन्गोड़ा
तूंग
भ्युंळ (भीमल )
खडीक
जामण
हरड़
Copyright @ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

बनस्पा का फूल मसालों रूप मा उपयोग

Garhwali Food, Uttarakhand Food, Kumaoni Food, Himalayan Food
बनस्पा का फूल मसालों रूप मा उपयोग ( flower and leaves of Viovola Biflora )
Bhishma Kukreti
बनस्पा क पौधा छ्व्ट छ्व्ट हुन्दन अर फूल पीला हुन्दन . उन त बनस्पा वैदिकी मा काम आन्द पण पैल यांक पता अर फूल गरम मसालों क रूप मा या चाय मा उपयोग होंद छौ
Copyright @ Bhishma Kukreti, Mumbai,India, 2010

History of Garhwali Castes (Garhwal ka Jatiy Itihas ) ---Part 3

History of Garhwal
History of Garhwali Castes (Garhwal ka Jatiy Itihas ) ---Part 3
(refrences: Garhwal ka Itihas by Pundit Hari Krishna Raturi and articles of Mohan Babulkar, Dr Dinesh Baluni)
Presented by Bhishma Kukreti
Brahmin ----

Name of Caste Old caste/From where they came Year of coming in Garhwal Village in Garhwal First Person in Garhwal
Mandwal Dwarhat , Kumaun 1643 Mahadgaon Rajdash
Devrani Gujrati Bhatt 1440 Divran Malu and Talu
Pokhriyal Vilval/Gujrat 1621 Pokhari Gurusen
Dabral Maharashtra 1366 Dabar Raghunath, Vishvnath
Sundriyal Karnataki Brahmin 1654 Sundoli Mahidev
Kimothi Gaud, Bengal 1560 Kimotha Kumardev
Badola Gaud/Ujjain 1741 Badoli Ujjwal
Panthari Jalndhar 1540 Panthar Anyu and Panyu
Baluni Sarswati /Jalandhar 1721 Balon gaon Jeev ram
Purohit Jammu 1756 Purotahi job NA

History of garhwali caste (Garhwal men Kaun Jati Kahan se Ayi ) : Part ----2

History of Garhwal
History of garhwali caste (Garhwal men Kaun Jati Kahan se Ayi ) : Part ----2
(Bases : Garhwal ka Itihas by Pundit Hari Krishn Raturi , articles of Mohan Babulkar (Devprayagi Jatiy Itihas) and Dr Dinesh Baluni )
Presented by Bhishma Kukreti
Rajput

Caste/jati ka Nam Old caste/From where they came Year of Coming in Garhwal AD Original Village in Garhwal First person of the Caste settled in Garhwal
Panwar (Parmar) Parmar /Dhar Gujarat 888 Became King of Garhwal King
Kumar (Parmar ) Parmar / Dhar Gujrat 888 Younger Brother of king King family
Rautela Parmar/Dhar Gujrat 888 Family members of King King Family
Aswal Chuhan / ranthambhor /Delhi 888 Aswalsyun There is a proverb: Adha Garhwal Addha Aswal
Bartwal Parmar/Ujjain 888 Bardet Relative of King
Mandrwal Katrur dynasty of Kumaon 1654 Not available Baij Bahadur, Khadk singh
Rajwar Katyur of Kumaon dynasty 1654 Not available Not available
Chand Chand dynasty of Kumaon 1556 NA NA
Ramola Chauhan /Mainpuri 200 Ramoli NA

The brief Historical Account of Garhwali Caste

History of Garhwal
The brief Historical Account of Garhwali Caste
Garhwal me Kaun Jati Khahan Ki
(Based on Garhwal ka Itihas by Pundit Hari Krishna Raturi , Mohan Babulkar’s Devprayagi Pandon ka Jatiy Itihas and articles of Dr Dinesh C Baluni )

Presented by Bhishma Kukreti

A- Brahmins

Jat (Caste name) Old caste/ From Where came Year of Coming in Garhwal AD Original Village in Garhwal First person in Garhwal
Nautiyal,
(Majkhola, Palyal, Dhngan, Gajldi) Dhar, Ujjain Madhy Pradesh 889Ad Nauti Devidas was settled in Neelkanth (near Shrinagar
Maithani Gaud , Bengal 912 Ad Maithana (Chandpur) Rup Chandra
Semalti Veerbhumi, Bengal 909 Ad Semalta Ganpati
Gairola Ady gaud 915 AD Gairoli Jaya nand , Vijaya nand
Chamoli South India or below Vindhyachal 922 AD Chamoli Dharnidhar, Harmi-Virmi
Thapliyal Adygaud , gaud Desh, Bengal 923 AD Thapli Chandpur Jay Chand, May Chand
Dimri Karnataka /border Kerla Most probably , first time came with Rawals of Badrinath Dimmar Ballbhadra
Dyundi Dyund
Kartwal Kadti ( malla Dhangu)
Parandiyal Parand uday pur
Khanduri Ady Gaud , Veer Bhumi Bengal 886 AD Khandudi Sridhar and Maheshwar
Raturi Gaud desh 923 Ratyud Satya nand , Rajbal
Semwal Ady Gaud 923 Sem Gaon Prabhakar and Niranjan
Navani Gujrat 923 Naun
Hatwal Bengal 1002 AD Hatgaon Sudarshan , Vishshwar
Kothiyal Adi Gaud Koti
Bijlwan Gaud Bijju (Tihri ) Bijju
Sati Sati , Gujrat
Lakheda Ady Gaud , Bengal 1060 AD Rishilakheda (Rikhyad) Lakhed Narad and Bhanuveer
Pujari Dravid, South 1665
Bahuguna Ady Gaud, Bengal 923 Bugani Krishna Nand and Achyuta Nand
Dangwal Dravid, Karnataka 926 Dang Dharni Dhar
Dobhal Kanykubj , 888 Dobh Karn Jeet
Uniyal Maithli, Mithla (Bihar ) 924 Uni /Veni gaon Jayanand , Vijayanand
Ghildyal Ady Gaud 1043 Ghild Luthan Dev
Naithani Kany Kubj, Kannauj 1143 Nathana (Maniyarsyun ) Karn Dev
Juyal South 1643 Juya Vasudev
Saklani Kanykubj, Awadh 1643 Saklana Nagdev
Joshi Dravid, Kumaon 1643 Pokhda
Tiwari /Tirwani Tripathi/Kumaon
Painyuli Gaud 1150 Painyala/Ramoli Brahmnath
Chandola Sarswati/Maharashtra 1576 Chandoli Luthraj
Dhoundiyal Rajasthan 1655 Dhound Rupchand
Mamgain Gaud, Ujjain Stayed in the village of mama
Barthwal Gaud, Gujrat 1443 Bareth ( Malla Dhangu) Sury Kamal
Naudiyal Gaud, Bhringa Viranga 1543 Naudi Shashi Dhar
Kukreti Dravid Bilhat 1352 Jaspur, Mlaa Dhangu (Kukarkata ) Gurupati
Dhasmana Gaud, Ujjain 1666 Dhasman Veerdev
Kainthola Gujrati Bhatt 1614 Kaintholi Ram Vitthal
Suyal Gujrai Bhatt Suee Dajal
Bangwal Gaud, MP 1668 Banga
Anthwal Sarswat , Punjab 1555 Aneth Ramdev
Baukhandi Bhrikund, Maharashtra 1645
Jugran Pande, Kumaon 1645 Jugdi
Malkoti 1643 Malkot Balk Das
Balodi Dravid, South 1343 Balod
Ghansyala Gaud, Gujrat 1543 Ghansali Bhagndev

शिकार क जानवर , पंछी

Cuisines of Uttarakhand, Food of Kumaon, Dishes of Garhwal, Recipes of mid Himalaya
शिकार क जानवर , पंछी (Animals and Birds used for Ethnic Non Vegeterian Dishes in hills of Uttarakhand )
Bhishma Kukreti
प्ल्याँ जानवर (Domestic )
१- बखर
२- ढिबर
३- कुखड़
४- अच्काल माछा बि पल्य़ाणा छन
जंगल क जानवर पंछी
१- सुन्गर
२- घ्वीड़
३- काखड़
४- मिरग
५- चखुल
6- जंगली कुखड़
७- चकोर
८- तीतर / बटेर
९- माछ
१०- सौलू
११ - सिंगनू/च्यूं : यद्यपि च्यूं एक बनस्पति च पण मन्यता क हिसाब से च्यूं तैं शिकार माने जांद
Copyright @ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

मसालों की पैदावार (Spices , Grown in Hills of Uttarakhand )

Kumaoni Recipes Cuisines of Uttarakhand, Food of Garhwal, Garhwali Dishes,Himalayan Dishes

मसालों की पैदावार (Spices , Grown in Hills of Uttarakhand )
Bhishma Kukreti
१- धणिया
२- मर्च (Chilly )
३- जीरो
४- अज्वाण
५- भ्न्गुल
६- बेथु (मेथी)
७- भ्न्ग्जीरा
८-ज्ख्या (जंगल )
९ - मुर्या (घासपात )
१० - दाळ चीनी क पत्ता /छाल
११- प्याजक बीज
12- Lahsun/lhyasan
13-Adrak/Adu
Copyright @ Bhishma Kukreti , Mumbai, India, 2010

तेल वल़ा बीज (तिलहन , Oil Seeds in Hills of Uttarakhand )

Cuisines of Garhwal, Dishes of Kumaon, Ethnic Food of Uttarakhand
तेल वल़ा बीज (तिलहन , Oil Seeds in Hills of Uttarakhand )
Bhishma kukreti
१- तिल,
२- राई
३- लया (सरसों)
४- मूल़ा
५- भ्न्गुल
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

साग भुजी (सब्जियां, Vegetables in Hills of Uttarakhand )

Cuisines of Garhwal, Dishes of Kumaon, Ethnic Food of Uttarakhand
साग भुजी (सब्जियां, Vegetables in Hills of Uttarakhand )
Bhishma kukreti

हौरी भुज्जी (green Leaves and Stems)
१- मूला
२- पहाड़ी पलिंगु
३- मर्सू
४- खीरा /कद्दू के पत्ते
५- पिंडालु /अरबी
६- ओगळ
७- राई
८- लया
९- कडाळी (जंगल की बनस्पती )
१०- प्याज
११- लिंगड/खुन्तड (जंगल)

फुळड़ (फली, Pods, )
१- सूंट
२- तोर
३- लुब्या
४- छीमी
५- मटर
६- स्यूंचणा

फल

१- खीरा
२- लम्यंड
३- गुदड़ी
४- करयल/कर्य्ल
५- मिट्ठ कर्य्ल
६- तुमड़ी
७- भट्टा/बैंगन
८- तिमल ( जंगल )

कंद , जलड मूल फल आदि

१- मूला
२- प्याज
३- तैडू (जंगल अर घर )
४- गींठी (जंगल )
५- बसिंगू (जंगल )
६- बाँकु ( जंगल)
७- पिण्डालू
८- बन्स्कील (जंगल )
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

दाळ उं व्यंजन (दलों का उपयोग, Cuisines from Pulses)

Himalayan cuisines, Himalayan dishes, Garhwali Dishes, Kumaoni Recipes, Uttarakhand Food
दाळ उं व्यंजन (दलों का उपयोग, Cuisines from Pulses)
Bhishma Kukreti
१- उड़द : दाळ , , मिश्रित दाळ, चैन्सू (रगड्वणि दाळ, द्वलिँ दाळ ) , फाणु , भूड़ा (पक्वड़ी ), भरीं रुट्टी, भ्र्याँ स्वाळ , बौड़ी/बड़ी , खिचडी , पटुड़ी
२- तोर : दाळ , हरड़ बणेक दाळ, उसयाँ बुखण (खाजा ) , भरीं रुट्टी, भ्र्याँ स्वाळ , मस्यट कु आलण /मस्यट कु साग
३- सूंट : दाळ, म्स्य्त से भ्र्याँ स्वाळ/रुट्टी, खिचडी, मस्यट कु साग, उसयाँ बुखण , पक्वड़ी
४- मूंग : मुंगणि (खिचड़ी ) (पहां डों मा मूंग कम होंदी छे )
५- रयांस : दाळ, म्स्य्त से-- रुट्टी, स्वाळ साग; उसयाँ बुखण , पक्वड़ी , खिचड़ी
६- गौथ, गहथ /कुलथ: फुळड़ की भुज्जी , फाणु, पटुड़ी, कचो भिज्याँ दाणु तै पीसिक भरयाँ रुट्टी, उसयाँ दाणु मस्यट से भ्र्याँ स्वाळ, रुट्टी; , बौडी//बड़ी , मस्यट कु आळण , उसयाँ बुखण
७- भट्ट : भटवणि , खिचड़ी , दाळ, भुजिक बुखण , उसयाँ बुखण , भ्र्याँ रुट्टी . बौडी/बड़ी , भुज्याँ बुखण कु हलवा/बाड़ी
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

मर्सूं व्यंजन (चौलाई के व्यंजन )

Himalayan cuisines, Garhwali cuisines, Kumaoni Cuisines
मर्सूं व्यंजन (चौलाई के व्यंजन )
Bhishma Kukreti
१- सत्तू
२- रुट्टी
३- मिट्ठ रुट्टी
४- कबि कबार पल्यो आलण
५- खील /बुखण
६- खीलूं लड्डू
७- पत्तों हौरी भुज्जी
८- पत्तों पक्वड़ी
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

जुंडळ क व्यंजन (ज्वार के व्यंजन )

Himalayan cuisines, Garhwali cuisines, Kumaoni Cuisines
जुंडळ क व्यंजन (ज्वार के व्यंजन )
Bhishma कुकरेती
१- मिश्रित रुट्टी
२- भुजिक बुखण (खील बणण से पैल की स्तिथि )
३- खील
४- कबी कबी प्ल्यो कुणि आटु आलण
५- खिचडी
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

ओगळ/कोटो क व्यंजन

Himalayan cuisines, Cuisines of Kumaon, Cuisines of Uttarakhand, Cuisines of Garhwal
ओगळ/कोटो क व्यंजन
१- पत्तों हरी भुजी
२- पत्तों पक्वड़ी
३- ढबाड़ी रुट्टी
४- क्वलटणा (बिस्कुट जन )
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

मुन्ग्र्युं व्यंजन (मकई के व्यंजन Cuisines from Maize )

Cuisines of Uttarakhand, Cuisines of Kumaon, Cuisines of Garhwal, himalayan Cuisines
मुन्ग्र्युं व्यंजन (मकई के व्यंजन Cuisines from Maize )
Bhishma Kukreti
१- काचो थ्वाथा / भुट्टा क दा णु तैं भूनिक क बुकाण
२- थ्वाथा तैं उस्याँण अर दाण बुकाण
३- काचो दाणु तैं पीसिक ळगड़ी
४- काचो दाणु तैं पीसिक पल्यो (सदो, मिट्ठू, लुण्या ) या झुल़ी
५- काचो दाणु तैं पीसिक आलण
६- काचो दाणु तैं हरी भुजी मा उपयोग
७- रुट्टी
८- डोट रुट्टी
९- ढबाड़ी रुट्टी
९ बी - भरीं रुट्टी
१०- सत्तू
११- दाणु तैं उसेक बुखण
१२- दाणु तैं भुजिक बुखण
१३- बाड़ी
१४- मिट्ठू बाड़ी
१५- प्ल्यो /झुळी कुण आलण
१६- भुजी/ साग कुण आलण
Copyright @ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

ग्युं व्यंजन (गेंहू के व्यंजन ) (Cuisines , Food from Wheat )

Garhwali food, Kumaoni Food, Uttarakhand Food
ग्युं व्यंजन (गेंहू के व्यंजन ) (Cuisines , Food from Wheat )
Bhishma Kukreti
१- रुट्टी
२- रोट
३- लुण्या रुट्टी
४-मिट्ठी रुट्टी
५- डोट रुट्टी
६- रल़ो -मिसोऊ वळी/ मिश्रित आटाओं रुट्टी
७ मथिन की सब रुट्टी तेल मा तवा मा भुन्याँ/बणयीं रुट्टी
८- भरीं रुट्टी
९- तेल मा तवा मा पकयाँ भरीं रुट्टी
१०- पूरी
११- स्वाळ
१२- मिट्ठ स्वाळ
१३- भरयाँ स्वाळ
१४- गुलगुला
१५- रूटळणा
१६ - लगड़ी
१७ - गुड़जोळी (हलवा )
१६- पंजरी
१७- सत्तू
१८- सत्तू क हलवा
१९- उमी
२०- बुखण/खाजा / भुज्याँ ग्युं
Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010

Cuisines of Garhwal, Cuisines of Kumaon, Cuisines of Uttarakhand

जौ क व्यंजन
Bhishma Kukreti
1- रुट्टी
२- ढबाड़ी / मिश्रित रुट्टी
३ - प्ल्यो
४- खिचडी
५- कबी कबी आळण क रूप मा
Copyright@ Bhishma kukreti , mumbai ,India 2010
Cuisines of Garhwal, Cuisines of Kumaon, Cuisines of Uttarakhand
चीणा क व्यंजन
Bhishma Kukreti
१- रुट्टी
२- भात
३- खिचडी
४- चीणयाल (भुजिक बुखण /चबेना/खाजा क रूप मा )
अब चीणा बुयांड ही णी च . पुराणो जमानो मा खास अनाज मा चीणा की गणत होंदी छे
Cuisines of Garhwal, Cuisines of Kumaon, Cuisines of Uttarakhand
कौणी क व्यंजन
Bhishma Kukreti
१- भात
२- कौण्याळ
३- रुट्टी
४- खीर
५- आळण का रूप मा
चूँकि कौणि झ्न्ग्व र से जादा फ्क्फ्की होंद त सने सने क्रिक कौणि फसल बूण कम होणु च
Cuisines of Garhwal, Cuisines of Kumaon, Cuisines of Uttarakhand

कोदो क व्यंजन

Garhwali food, Kumaoni Food,
कोदो क व्यंजन
Bhishma Kkukreti
Baadi is an important cuisine

१- रोटी
२- रुटळ
३- मिट्ठ रोट
४- लुण्या रुट्टी /रूटळ
५- तेल मा पक्युं रोट/रुट्टी
६- डोट रुट्टी
७- भरीं रुट्टी /भर्यं लगड़
७- रलो मिसों रुट्टी (मिश्रित आटों से बनी रोटी)
८- चुल्मंड़ी (प्ल्यो - खटो, मिट्ठो, लुंण्या )
९- चूनमांडो चून के घोल को उबालकर बनाया जाता है)
११- उमी जन : हरो पण पको बळडों तैं भड़ये जांद
१२- आलण का रूप मा
Ekhdi tutl for Bhoot

Copyright@ Bhishma Kukreti, Mumbai, 2010

झ्न्ग्वर का व्यंजन

Food of uttarakhand, Food of Garhwal, food of Kumaoni
झ्न्ग्वर का व्यंजन
Bhishma Kukreti
1- भात
२-झ्न्ग्वर भत्ति (झ्न्ग्वर की खीर)
३- खिचडी / गिन्ज्यरू
४- प्ल्यो , झोंळी/झुळी
५-आलण ---कळी/कण्डाळी , पिटवणि/धपड़ी
६- सत्तू
७- उमी जन: हरो पण पाको झ्न्ग्वर की बाल तै भड़ये जान्द फिर ह्त्थुन मा मान्डिक बुकांदं छन
Copyright@ Bhishma Kukreti , mumbai, 2010

सट्टी क व्यंजन (Food from Rice)

Food of Uttarakhand , Food in Uttarakhand, Garhwali food, Kumaoni Food

सट्टी क व्यंजन (Food from Rice)
Bhishma Kukreti
पैली सट्टी से इन व्यंजन बणदा छया:
१- भात
२- बनि बनिक खिचडी
३- खीर
४- अरसा : अरसा बणाणो कुणि भिजयाँ चौंलूं तैं कुटीक, (पीठु ) तैं गुड़ का दगड पाक दिए जांद अर फिर ढीडि बणेक तेल मा पकये जांद
५- चपड़ चूडा पाणी मा भिज्यां सटयूँ तैं हिसर मा भुजे जांद अर गरमा गरम उर्ख्यळ उन्द कुते जांद यी चूडा चपड होंदन
६- सादा चूडा : भुज्याँ सटयूँ तैं जब कबि बि देर सबेर कुटे जावन त सादा या डमडम चूडा बणदन
७- खील
८-मिट्ठू भात (खुसका )
९- कळ खिचडी
१०- पळयो मा आलण (कट्यां चौंळ )
११- धपड़ी/ पिट्वणि मा सिलवट मा पिस्याँ चौंलुं आलण

डा नन्द किशोर ढौंडियाल न कुछ औरी व्यंजन बतैन--- बगरा, पणबगरा , विरन्जी

Copyright @ Bhishma Kukreti , Mumbai, India, 2010

सिद्धपीठ चन्द्रबदनी

चंद्रकूट पर्वत शिखर,
खास पट्टी, टिहरी गढ़वाल,
२७५६ मीटर की ऊँचाई फर,
स्थित छ चन्द्रबदनी मन्दिर,
जख औन्दा छन भक्त गण,
दूर दूर देश, प्रदेश बिटि,
अर करदा छन कामना,
होंणी, खाणी, सुखी जीवन की,
होन्दि छ मनोकामना पूर्ण,
माँ चन्द्रबदनी का दर्शन करिक.

जब भगवान शिव शंकर,
माता सती कू मृत शरीर,
दगड़ा ल्हीक विरह मा,
विचरण कन्न लग्यां था,
माता सती कू बदन,
सुदर्शन चक्र सी कटिक,
चंद्रकूट पर्वत शिखर फर,
भ्वीं मा पड़ी,
"सिद्धपीठ चन्द्रबदनी",
एक प्रसिद्ध तीर्थ बणि.

चन्द्रबदनी तीर्थ स्थल,
सुरम्य अर रमणीक भारी,
जख बिटि दिखेन्दि छन,
हिवाँळी काँठी, डाँडी प्यारी.

रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(सर्वाधिकार सुरक्षित एवं प्रकाशित.मेरा पहाड़, यंग उत्तराखंड, हिमालय गौरव उत्तराखंड, पहाड़ी फोरम पर)
दिनांक:२५.६.२०१०, दिल्ली प्रवास से.....(ग्राम: बागी-नौसा, पट्टी.चन्द्रबदनी, टिहरी गढ़वाल)

सरग दिदा पाणि-पाणि

हमारा मुल्क प्यारा पहाड़,
जख छ गंगा यमुना कू मैत,
जख बगदा छन गाड गदना,
पेन्दा था मनखि ठण्डु पाणी,
लोठ्या, गिलास, छमोट भरिक,
गदना मा बगदा धारा बिटि,
मूळ अर सिळ्वाणि फर.

पर ऐंसु यनु निछ,
जू पहाड़ प्रेम वश,
अपणा प्यारा गौं गैन,
गौं का सुख्याँ धारा देखिक,
मन ही मन भौत पछतैन,
ऊ पुराणा दिन भि याद ऐन,
कख हर्चि होलु पाणी?
देखि उन द्योरा जथैं,
दूर कखि ऊड़दु-ऊड़दु
चोळी तीसन त्रस्त ह्वैक,
जोर-जोर सी बासणी,
"सरग दिदा पाणि-पाणि".

क्या ह्वै होलु यनु?
हर्चिगी पहाड़ कू ठण्डु पाणी,
द्यो देवता रूठिग्यन,
या लोग ऊँ भूलिग्यन,
जू भि ह्वै, भलु निछ,
वरूण देवता बरखौ,
प्यारा पहाड़ मा पाणी,
ह्वैगि आज अनर्थ,
लोग बोन्ना छन,
"सरग दिदा पाणि-पाणि".


रचना: जगमोहन सिंह जयाड़ा "जिज्ञासु"
(सर्वाधिकार सुरक्षित एवं प्रकाशित.मेरा पहाड़, यंग उत्तराखंड, हिमालय गौरव उत्तराखंड, पहाड़ी फोरम पर)
दिनांक:२४.६.२०१०, दिल्ली प्रवास से.....(ग्राम: बागी-नौसा, पट्टी.चन्द्रबदनी, टिहरी गढ़वाल)

Types of Food Taste

Bhishma Kukreti
(Types of Food Taste and Smell, Various Taste of food, Names of Types of Food Taste in Garhwali )
According to Ayurved , there are basic six types of food taste viz- Sweet, Sour (Acidic), Bitter, Salty, Hot (pungent as Chilly‘s taste) , Astringent . All other tastes are the mixer of these six bas tastes . It is observed that in most the languages, the words are not exclusive for each food taste . However, Garhwali is one of the languages where we may find specific word for each food taste and even it new taste, the vocabulary of Garhwali language is so rich that you can create the name of taste and the other Garhwali knowing person will easily understand what you mean. the taste of food.
The food taste is not limited to tongue and nose but the taste is combination of chemicals in food, effects and observing power of taste buds/nostril buds, touch from tongue/buds of .palate; and sight or the food or physical structure/composition. Let us look at a few types of food taste in Garhwali language
Savadi : tasty
Nisavadi: Not tasty
Amlan , , Acidic as in curd
Khatan : Acidic /Sour usually related to fermented ones
Daiyan: The smell of curd specially related to fermented one
Imalyan: The taste of tamarind
Chhanchhyan: the smell of butter milk dominating other tastes or the taste of butter milk made by over aged curd
Khatu /Khattu : Acidic/Sour as in unripe apple/ butter milk, lemon
Lunya , , : Salty
Lun katto : Over salty
Alun/Alunya : Without salt (it is used where salt is must )
Marchnya/mechanic: the hot taste/effect on tongue of chillies
Daunkar : It is hot effect on intestine which, shows the hotness of spicy food especially chilies, black pepper or clove
Garma masalon gandh: The specific smell of hot spices (black pepper, clove etc
Dhanyan: when the smell of cumin spice is more dominating in the food
Mitthu/mittho : Sweet as sugar.
Chus Mittho : Over Sweet
Nimkhni Mittho : Less sweet or too less sweet

Sll Dant : when by over sourness/acidity of lemon/curd/buttermilk curry , the teeth become num/senseless , the experience of taste called ‘Dant Sillyan”
Jeev Chhijan : This experience is an effect of over salty food, over acidic / over spicy food on the tongue and is felt as the food poured the tongue by needles
Chus thando : The too cold effect on tongue as of snow or ice
Tato : it is a fact that the taste of food changes according to the temperature . Tato is the high temperature oriented hot effect on tongue of boiled food as boiled milk, just cooked hot food etc.
Dhunvan/Dhuvyanya : When the food is cooked in burning coal/wood and there is effect of smoke on food, the smell/taste is called ‘Dhunvan/Dhuvanya.
Jalan : When the food gets burnt outside by over cooking (as by burning coal/wood or iin the pot), the smell /taste is called jalyun/jalyun/jalan . However, there is clear difference between the taste of smoked food and over burnt food.
Mwasan: When the food is being cooked in burning coal/wood and food gets burnt outside . In such case if there is food taste as of wood coal , the tatse is called Mwasaan
Turkyadan: If the food (specially bread) is cooked on the burning stem of Tor and leaves the smell effect on the food , the taste or smell called Turkyadan.
Lisyan/Kunlailyan: if the food is cooked in the burning pine wood and its Gum smell effects the taste/smell of food it is called Leesyan (Smell of Leesa) or Kunlailyan.
Kharoyan: When there is effect of ashes on the food taste/smell while cooking the food on burning wood/dung cake/coal, the taste /smell of ashes on food is called Kharoyan.
Molyan 1- If the food is being cooked on burning dung cake and by chance the smell of dung cake comes in the cooked food, the smell/taste is called Molyan.
Molyan 2-The smell of animal dung
Chiran : The bad smell of urine
Bhabhlan : the bad smell of sweat or cloths after boiling


Teruaan : The smell of dead insects called ‘ Teru’which are found inside/outside dry seeds of pulses. Many times, the pulses are infected by these insects and the dry pulse seeds also smell the smell of these insects.
Galtu: No taste specially water/soup/curry
Ghaltu: No taste specially water, soup or citrus fruit
Kisran : Very appealing smell/taste (as well and more boiled milk, ghee)
Pilsan/pilsyun: Pilsyun is the state of cooked food which means over cooked but not good and the smell of Pilsyun food is Pilsan
Piran: Irritating smell of onion
Pipran: Irritating ssmell of onion
Khikran: Bad and irritating smell as of burning tobacco or fermented tobacco leaves
Kinkwali: Itching effects of colchicum leaves, bulbs (specially when eaten raw, hot or half cooked condition)
Misran: the taste of Misri
Gudan: the taste of Gud
Kado : Bitter as in bitter guard
Lunkhatto: Salty and Sour
Bhatbhato: No taste or non-likable taste
Kumran: smell of roasted cereals /pulse seeds
Kutran: the bad smell of burning cotton/cloths/hemp fibers etc
Kidan: The smell of burning animal skin
Chalmalu: Good taste of roasted seeds/cereals/gum etc
Chalmalu: Good tasted of roasted or raw oil-seeds as in almond , pie nuts ,Chilgoza
Kasailo: Bad taste and irritating of curd or curd related food (butter milk, butter milk curry) , sour food . Usually happens, when the curd/curd related food/sour food on copper containers for long
Telan/Chilkan: when the food is cooked on half boiled oil (by mistake)
Tartro: neither sweet, sour or salty (usually taken negative taste but not harmful and food is taken for that taste)
Aundhan: for somebody, the allergic taste of a particular food especially used for Gahth /Gauth soaked in water, grinded and then made curry of that paste. Howver, it is also used for other food if somebody is allergic to the particular food as many are allergic to milk and milk product.
Basyan: When a cooked food/raw food start smelling bad
Dhpan ki gandh:When an aromatic plant/plant paste/oil is burnt or or roasted, its good smell is called dhupan ki gandh .
Chhounkyan/chhauka ki Gandh: when the food is fried in oil/ghee/butter
Gheeyan: when the ghee smell is dominating over food taste
Naunyal/nauni ki gandh: When the taste of butter is dominating the food taste
Mitti tel k gandh: Bad smell of kerosene on food (when cooked on kerosene stove)
Turkyadan: When the bred is roasted on the fire of Tuar stems. Same way, if the smell is of kyada/ chill it is called chillun gandh
Daundan: Usually the unwanted smell of pulse (if not cooked properly )
Bhapyan: When the food is cooked on steam and if the food provide a specific aroma (only after steaming it )
Silan: When the food/ingredient is soaked in water in dark place and if it smells differently than its own smell

Copyright @ Bhishma Kukreti, Mumbai, India, 2010,